Skip to content

एक अनोखी रात – Dirty Sex Tales

बात आज से 2 साल पहले की हे उस वक्त मे मुल्तान मे एक कम्पनी मे जॉब करता था. मुझे कंपनी के काम से मुल्तान से बहवालनगर जाना था। मे घर से सुबह 8am पर निकला ताकि जल्दी वापस आ जाऊ. लेकिन वापसी पर देर हो गयी ओर मे रात को 9pm पर बहवालनगर से मुल्तान के लिय निकला।  रास्ते मे एक जगह हमारी कार चलती चलती रुक गयी. उस को चेक किया तो पता चला के फेन बेल्ट टूट गई हे. उस वक्त रात के 11बजे थे। अब मे सोच रहा था कि रात यहीं सडक पर गुज़ारनी पड़ेगी।  कुछ देर के बाद मुझे एक गाड़ी की लाइट नज़र आई तो कुछ उमीद होई के अब मसला हल हो जायगा।  जब कुछ क़रीब होई तो पता चला के कोई ट्रॅक्टर आ रहा हे. ट्रॅक्टर वाला मेरी पास आ कर रुक गया ओर पूछने लगा साहब जी किया हुवा।
मेने बताया के मेरी गाड़ी का फेनबेल्ट टूट गया हे इस पर उसने मुझे ऑफर कीया के मे उस के घर पर रात गुजारु ओर सुबह गाड़ी ठीक करवा कर मुल्तान चला जायूं. मेरे पास इसके सिवा कोई रास्ता नही था. उसने मेंरी गाड़ी अपने ट्रॅक्टर के साथ जोड़ दी ओर मुझे अपने घर ले गया जो रोड के साथ एक गाव मे था। उसका नाम नॉवज़ था उसने घर मे अपनी माँ को आवाज़ दी. माँ एक मेहमान आया हे एक रूम से उसकी माँ निकली तो नॉवज़ ने कहा माँ खाने का बंदोबस्त कर उसकी माँ की उम्र 40 से 42 के दरम्यान होगी। सेहतमंद जिस्म ओर खूब बड़े बड़े मम्मे उसकी कुरती मे से नज़र आ रही थे. ब्रा  दिलकश नज़ारा दे रही थी। उस की माँ ने खाना गर्म किया. हम दोनो ने खाना खाया उसके बाद नॉवज़ ने मुझे एक लूँगी ओर कुर्ता दिया. ओर कहा के आप सो जायेगा क्युकी मे खेतो मे पानी देने जा रहा हूँ ओर सुबह आऊंगा.
मे दुसरे रूम में गया लुंगी ओर कुर्ता पहन कर लेट गया ओर उसकी माँ के बारे मे सोचने लगा के क्या   चीज हे मोटी गांड ओर बरी बरी मम्मी मे उसको चोदने के बारे मे सोच कर ही मेरा लंड खड़ा हो गया. ओर मे अपने लंड को हाथ मे लेकर मसल रहा था. की अचानक उसकी माँ आ गयी ओर बोली के अगर पेशाब करना हो तो घर से बाहर चले जाना क्युकी गाव मे घर मे बाथरूम नही होते। मेने कहा हाँ जाना हे उसकी माँ जिसका नाम अनवरी था. उसने अब ब्लॅक कलर की लूँगी ओर कुर्ता पहना हुवा था. जिसमे से उसकी गांड ओर खूबसूरत लग रही थी। मुझे घर से बाहर ले गयी काफ़ी दुर जाने के बाद उसने मुझे  एक तरफ़ जाने का इसारा किया के पेशाब उधर कर लूँ. मेंरा लंड उसकी गांड देख कर ही बेक़ाबू हो गया था.  मे जब पेशाब कर के आया तो वो मेरे आगे चल रही थी ओर उस की गांड देख कर मेरा लंड झटके  ले रहा था. तबी अचानक मेरा पेर फिसल गया ओर मे पीछे से उसके साथ जाकर लग गया ओर मेरा लंड उसकी लुंगी के उपर से उसकी गांड से टकरा गया. ओर मेने उसको गिरने से बचाने के लिय पकड़  लिया ओर मेरा हाथ उसके नरम नर्म मुम्मू से टकरा गये।
उसने भी मेरे अकडे हुय लंड को अपनी गांड मे महसूस कर लिया. मे डर रहा था के पता नही अब किया  होगा खैर हम लोग घर आ गये उसने कहा के आप का लंड हर वक्त खड़ा रहता हे. मेने कहा नही कोई खास चीज़ देख लेतो खड़ा हो जाता हे. अनवरी बोली क्या खास चीज़ देख ली… मेने उसकी गांड पर हाथ लगाया ओर बोला इसको देख कर इस पर वो बोली तुम्हारे लंड को गांड चाहिय या चूत .. मेने कहा दोंनो इस पर उसने अपनी लुंगी खोली ओर मेरी लुंगी मे हाथ डाल कर मेरा लंड अपनी गांड के साथ लगा लिया ओर मे लंड को अपनी गांड से रगड़ने लगी। अब मुझसे बर्दास्त नही हो रहा था ओर मेने पीछे से अपना लंड उसकी गांड मे टीका कर पकड लिया ओर उसके चुचीयो को दबाने लगा।
उफफफफफफफफ्फ़ हा…अ क्या टाइट मम्मे थे. इस उम्र मे उसके निप्पल तनी हुई थी.  उसने ब्रा नही पहनी होई थी. मेने उसका कुर्ता उतारा ओर उसके बोबे को दबाने लगा ओर उसका जिस्म आग की तरह गर्म हो रहा था ओर सिसकारियाँ ले रही थी।
हू मरी आ.. फ्.. आई तो उसके खूबसूरत चुची देख कर मे उसके निप्पल चुसने को बेचेन होने लगा. उसने एक हाथ से अपना मम्मे को पकडा ओर मेरे मुह मे डाल कर बोली ले चुस इसको आज ताज़ा दूध पी…  ओर मेने किसी भूखे बच्चे की तरह उसका निप्पल लेकर चुसने लगा. हाआआआआ किया मीठा मीठा मज़ा था. उसकी एक चूची मेरे मुह मे थी ओर दुसरा मेरे हाथ मे था. जिसकी वजह से वो बेक़ाबू हो रही थी ओर मुझसे अपना चूची खूब चुसवा रही थी। हाआअ चुऊऊऊस ओर जोर जोर से चुसो आज काफ़ी सालो के बाद इसको कोई चूस रहा हे. हा.. मज़्ज़ाआ.. अब मेने भी अपनी लुंगी ओर कुर्ता उतार दिया। उसने मेरा लंड हाथ मे पकडा तो खुशी से पागल हो गयी. मेरा 8इंच. का मोटा ओर सेहतमंद लंड उसने फॉरन अपने मुह मे डाल लिया ओर मेरी लंड को चुसने लगी ओर मे तो किसी ओर दुनिया मे पहुच गया ।
उफफफफफफफफ्फ़ हा..आअ.. ओर तेज़ चुस मेरे लंड को हा..आअ ओर पुरा अपने मुह मे ले वो मेरा लंड इस तरह चुस रही थी पता नही कब की भूखी हे. मेने उसको खड़ा किया ओर उसकी टांगो को खोला  ओर नीचे बैठ कर उसकी लाजवाब चूत का नज़ारा करने लगा. उसकी उभरी हुई मोटी चूत जो लंड लेने के लिय बेकरार थी ओर गीली हो रही थी ओर गर्म होकर डबल रोटी हो रही थी. मेने अपनी ज़बान से उसकी चाटने लगा ओर अपनी ज़बान उसकी नर्म ओर गर्म चूत मे डाल दी ओर हाआआ.. म्म्म्म म ओर वो मेरे सर को अपने हाथो से अपनी चूत पर दबाने लगी ओर पागल होकर हाआआआआ चुऊवस मेरी चूत को इसका सारा रस पी ले हाअ उफफफफफफफफफफ्फ़ चुऊवस ओर उसकी चूत ने सारा पानी मेरी मुह मे निकाल दिया। फिर मे खड़ा हुआ ओर अपनी ज़बान उसके मुह मे डाल दी ओर वो भी अपनी चूत  के पानी का मज़ा मेरी ज़बान चुस कर लेने लगी मेने उसकी ज़बान चूसी ओर खुब एक दुसरे को चुमा चाटा।अब वो पैर खोल कर लेट गई ओर कहने लगी पहले अपना लंड मेरी चूत मे डाल मे उसके उपर आया उसके पैर खोले ओर अपना 8इंच. का लंड उसकी चूत के अंदर किया ओर एक ही धक्का लगाया ओर मेरा 4इंच. लंड उसकी चूत के अंदर था ओर वो मझे मे सिसकारियाँ ले रही थी। उसने अपनी दोनो पैर  मेरी कमर के साथ लपेट लिये थे ओर उसकी चूत ओर खुल गई ओर मेने थोडा सा ओर पुश किया ओर मेरा पूरा लंड उसकी गरम चूत मे उसकी बच्चेदानी को टच करने लगा ओर उसके मुह से हााआआ उफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ मेरी चूत मार पूरा लंड मेरी चूत मे डाल।
चोद ओर जोर जोर से चोद आज छोड़ना नही मेरी चूत को हाआआआआआआआआअ मेरी जान तेरा लंड मेरी चूत को पसंद किया हे. चुऊऊऊऊओद इसको आज इसकी गर्मी अपनी लंड से निकल दे फाड़ दे मेरी चूत को हााआआ उफफफफफफफफफफफ्फ़ हााआआ मज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ा ओर वो अपनी चूत को उपर नीचे करने लगी ओर मेरा लंड उसकी चूत मे अंदर बाहर होने लगा हाआआआआआआअ मुझे तो ऐसा लग रहा था के आज इसकी चूत मेरे लंड को खा जायगी। 15 मिनिट तक उसकी जम के चुदाई  की अब मुझे उसकी गांड मारनी थी. मेने उसको घोडी बनाया उसके गोल गोल चूतड पर किस किया  ओर उसकी गांड के सुराख को सहलाया. वो कहने लगी कि अभी गांड नही मारो मे तेल लेकर आती हूँ..  तेल लेकर आई ओर मेने उसको घोड़ी बना कर उसकी गांड के सुराख पर तेल लगाया ओर अपना लंड उसके सुराख पर रख कर आराम से धक्का दिया अभी मेरा लंड 2इंच. अंदर गया.  वो दर्द से चीख पडी  ओर कहने लगी पहली दफ़ा गांड मरवा रही हूँ आराम से।
मेने आहिस्ता आहिस्ता अपना पुरा लंड उसकी गांड मे घुसा दिया ओर जब मेरा मोटा ओर गर्म लंड उसकी गांड मे अंदर बाहर होने लगा तो उसको भी मज़ा आने लगा ओर वो भी अपनी गांड से दबा दबा कर मेरे लंड से अपनी गांड मरवा रही थी। ओर जोर जोर से अपनी चूतड आगे पीछे कर रही थी. हााआअ उफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ म्म्म्म मममज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ा अब उसकी टाइट गांड ने मेरी लंड को पकड लिया था ओर मेने पीछे से उसके बोब्स पकडे ओर उसके उपर चढ़ कर ज़ोर दार धक्के  लगाये ओर उसकी गांड मे फ्री हो गया हाआआआआआआ ओर थकान से निढाल होकर मे उसके ऊपर  लेट गया। उसकी गांड ओर चूत मारने के बाद मुझे पेशाब आ रहा था. उसने कपडे पहने ओर मेने भी हम लोग बाहर गये ओर दोनो ने एक दूसरे के सामने बैठ कर पेशाब किया।
मैंने किसी औरत को फर्स्ट टाइम पेशाब करते देखा ओर क्या नजारा था. दोस्तो केसी लगी आपको मेरी यह कहानी. आपके कॉमेंट्स का वेट करूँगा.


This story एक अनोखी रात appeared first on new sex story dot com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments