गर्मी और गरम जवानी – Dirty Sex Tales

Posted on

इस साल गर्मी काफी थी। ऐसा लगता था की सूरज देवता अंगारे बरसा रहे हैं। दिल्ली की गर्मी तो और आग बरसा रही थी। कूलर और ac भी लगता था की उतना काम नही कर रहे हैं।
रेशमा यहां अकेली रह कर जॉब करती है और ज्यादा समय उसका बाहर ही गुजरता है। कभी ऑफिस के दोस्तो के संग कभी सहेलियों संग पार्टी।
पार्टी गर्ल और बिंदास है वो।
आज छुट्टी में घर पर अकेली थी और गर्मी के वजह से शरीर पर कपड़े भी कम थे। एक टाइट शॉर्ट और हल्का t-shirt। वैसे रंग रूप में किसी हिरोइन को भी मात देने वाली थी।
उसने शावर लेने का मन बनाया और जाने से पहले कुछ खाना ऑर्डर कर दिया उसने फोन पर।
फिर शायद जल्दी में में गेट बंद करना भूल गई। वाशरूम में उसने अपने आप को निहारा और धीरे धीरे अपने कपड़े उतारना शुरू कर दिया। उसके स्तन एकदम कड़क थे एवम दो दिनों पहले की उसके ऑफिस के दोस्त के संग संभोग को याद कर मुस्कुराने लगी।
अपने बूब्स को दबाने लगी और मजे से सिसकारियां निकालने लगी। हाथ अपने आप उसका पैंटी में गया। और उसने पैंटी भी उतार दिया। हाथो से अपने आप को खुश करने की कोशिश करने लगी। लेकिन उंगली अंदर बाहर करने में उसको वो मजा नही आ रहा था जो लन्ड में था। उसने अपने पूरे बदन को टब में कर लिया। पानी में हीं अपनी टांगे फैला के उंगली को चूत में डाला। आह आह आह की सिसकारियां निकलने लगी। इतने में डिलीवरी बॉय खाना ले कर आ गया और दरवाजे पर हल्की दस्तक दी।
लेकिन रेशमा अपने सिसकारियों में सुन नही पाई। कुछ देर बाद जब जोर की दस्तक हुई तो वह चौंक गई और towel लपेट कर उसने बाहर झांका। और डिलीवरी बॉय को देख कर एक प्लान बनाने लगी।
उसने दरवाजा खोला और डिलीवरी बॉय को बैठने के लिए बोला।
डिलीवरी बॉय चौंक और शरमा गया रेशमा को towel में देख कर।
रेशमा ने नशीली आंखों से उसको बोला। बाहर गर्मी बहुत है तुम थोड़ा ठंडा पियो। और लड़के के कुछ बोलने से पहले ही वह अपनी मस्त चाल में फ्रीज से दो बीयर के कैन ले आई। सोफे पर बैठ कर उसने अपनी टांग के ऊपर टांग चढ़ाई और उसके जांघ पर से तौलिया हट गया। या देख कर लड़के के चेहरे पर पसीना आ गया। रेशमा ने उसके पसीने को अदा से हटाया और कहा। देखो गर्मी बहुत है बाहर भी और अंदर भी। बीयर पियो। और लड़का रुकता डरता पीने लगा। अब रेशमा अपने आंखों से उसको सताने लगी। वो झटके से उठी जान बूझ कर की तौलिया खुल गया। वो नग्न हो गई। लेकिन जल्दी ही उसने टॉवेल उठा कर फिर लपेट लिया। ये उसकी चाल थी। लड़का तो गर्मी से और रेशमा की जवानी देख कर उत्तेजित हो गया। बेचारा जबरदस्ती अपने लन्ड को काबू में करने की कोशिश करने लगा।
और रेशमा ने उससे कहा, उठो और पैसे लेल ओ खाने का। फिर वो अपनी मस्त चाल में गांड़ मटका कर थोड़ा आगे गई और झुक कर बेड के नीचे से कुछ निकालने लगी। लेकिन उसकी इस हरकत से लड़का और गरम हो गया। उसकी गांड़ पर से तौलिया हट गया था और उसने तो पैंटी भी नही पहनी थी।
उफ्फ गुलाबी चूत के दर्शन कर के लड़का अपने लन्ड को दोनो हाथों से दबाने लगा। इतने में रेशमा फिर झटके के साथ पलटी और तौलिया फिर गिर गया। लेकिन इस बार रेशमा ने उसे उठाया नही। वो अपने बूब्स हिलाती हुई लड़के को पैसे देने आई। और उसके लन्ड से हाथ हटा कर बोली लोगे क्या। लड़का कुछ कहने की स्थिति में नही था।
रेशमा ने उसको कहा, गर्मी बहुत है चलो पानी में नहाते है।
अब वह लड़का समोहान से रेशमा के पीछे पीछे चलने लगा। और रेशमा ने उसको बोला। आओ मेरे सनम। आज कर लो मनमर्जी। पानी में खोले अपने लन्ड और चूत की बोली।
रेशमा ने लड़के के बदन से सब कपड़े बड़े अदा से उतारे। अब वह अंडरवियर में था। रेशमा ने शावर खोल दिया और उसने भींग गई। उसके गालों से पानी की बुंदे बूब्स से गिर कर कमर के बीच योनि तक आ गई। और यह देख कर लड़का सीधे योनि के सामने मुंह खोल कर बैठ गया। उस पानी को पीने के लिए।
यह देख रेशमा बोली, आओ मेरे हमदम पिनलो पानी चूत का
देखे कितना दम है तेरे लुंड में। अब तक लड़के का लुंड भी कड़क हो कर तन गया था और अंडरवियर से बाहर निकलने के लिए हुलहुल कर रहा था। रेशमा ने शावर के नीचे खड़े हो कर एक टांग लड़के के कांधे पर रखा था। और लड़का अपनी जीभ से चूत से गिरता हुआ सारा पानी चुपुर चूपुर पी रहा था। इधर रेशमा की सिसकारियां फिर शुरू हो गई थी। सांसे तेज चलने लगी और आह आह आह जोर से जोर से आह से बॉथरूम गूंजने लगा।
लड़के ने अब रेशमा को टब में लेटाया और खुद भी। नीचे वो लेता और रेशमा को अपने कमर पर बैठा कर इसने अपने लन्ड को उसकी योनि में डालने की कोशिश करने लगा। लेकिन रेशमा जान बुझ कर अपने गांड़ को उठा रही थी जिससे लुंड सही से नही घुस रहा था।
अब रेशमा ने उसके लन्ड को अपने हाथों से पकड़ा और अपनी योनि में मुंह पर लगाया। तभी लड़के ने जोर का। धक्का लगाया और लुंड योनिंके अंदर तक गया। रेशमा के मुंह से जोरदार चीख निकल गई। क्योंकि वो उर थिंटो अपने अंदर तक लुंड महसूस कर रही थी। इस बीच उसने अपनी गांड़ उठा उठा कर चुदाने लगी। लड़का भी इसके बूब्स को जोर से दबाने लगा और टब के पानी को उसके देह पर मारने लगा। पानी में चूद रही थी तो छप की आवाज भींगो रही थी।
अब लड़के ने रेशमा को गोदी में उठाया और पीछे से उसके नितम्बों को जोर से दबा कर अपने लन्ड को पीछे से ही डाल दिया।
शावर खुला था और दो बदन भी खुले थे। जम कर गर्मी उतरी गई। जवानी की प्यास बुझाई गई
अब रेशमा ने लड़के से नाम पूछा और उसको फिर कभी बुलाने का वादा किया।
दोस्तों अगर आपने ये पढ़ी तो अपने कॉमेंट में बताएं की कैसी लगी।
धन्यवाद।
सभी पात्र और घटनाएं काल्पनिक है एवम किसी से मिलना एक संयोग मात्र है।

This content appeared first on new sex story .com

This story गर्मी और गरम जवानी appeared first on dirtysextales.com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments