Skip to content

चचेरी बहन के साथ मस्ती : भाग ३

फ्रेंड्स
मैं रोहित, उम्र २५ वर्ष, बदन कसरती तो लम्बाई ५’११ इंच, सांवला चेहरा तो लन्ड ७ इंच लम्बा २ इंच मोटा और मैं अभी तक दर्जनों लड़की / औरतों के साथ हमबिस्तर हुआ हूं, मेरी चचेरी बहन रूपम जोकि हमउम्र है और बेचारी विधवा हो गई है के जीवन में रंग भरने की कोशिश कर रहा हूं और वो मेरे घर आई हुई है जिसकी लंबाई ५’५ इंच तो बदन मांसल साथ ही बड़ी बड़ी चूचियां तो जांघें मोटी और चूतड गोल गद्देदार, उसकी चूत की फांकें फूली हुई है तो दरार स्पष्ट, देर रात उसकी चुदाई किया फिर अगले दिन वो घर पर थी तो मैं अपने कोचिंग क्लास अटेंड करने चला गया और फिर शाम को घर आया तो रूपम और मॉम बैठकर बातें कर रही थी, मैं अपने रूम जाकर कपड़ा बदलने लगा फिर फ्रेश होकर डाइनिंग हॉल आया और सोफा पर बैठा तो रूपम बोलते हुए उठी ” चाय बनाकर लाती हूं भैया
( मैं बोला ) ठीक है ” मैं कुछ देर बाद मार्केट की ओर चला गया तो रूपम मुझे बोली ” रोहित मुझे व्हिस्की पीने का मन है
( मैं बोला ) ठीक है लेते आऊंगा फिर रात को पीकर ही खाना खायेंगे ” मैं मार्केट घूमने गया और फिर उधर से व्हिस्की की बोतल और कुछ सामान लेकर घर आया, मॉम खाना बनाने में लगी हुई थी तो बहन टी वी देख रही थी और डैड अभी तक ऑफिस से नहीं आए थे तो रूपम मेरी बहन विनीता के साथ बैठकर टी वी देख रही थी और कुछ देर बाद मैं डाइनिंग हॉल आया तो रूपम अकेले टी वी देख रही थी, मैं उसके पास जाकर बोला ” चलो छत पर वहीं व्हिस्की पिया जाएगा ” तो वो हामी भर दी फिर मैं व्हिस्की की बोतल जोकि बाईक के डिक्की में थी को निकाला और साथ में कोल्ड ड्रिंक्स की बोतल, सिगरेट लिए छत पर चला गया तो रूपम कुछ देर बाद पहुंची, वो नाईटी पहन रखी थी और मैं छत के कोने में खड़ा होकर ड्रिंक्स बनाने लगा तो रूपम मेरे पास आकर खड़ी हो गई ” अभी ड्रिंक्स लेंगे और किसी को इसकी भनक लग गई तो
( मैं उसको ग्लास पकड़ाया ) तुम एक पैक तो पियो फिर उसका भी उपाय है ” और फिर दोनों खड़े खड़े ड्रिंक्स लेने लगे, मैं उसके एक बूब्स को नाईटी पर से पकड़ दबाने लगा और वो ड्रिंक्स लेते हुए मुस्कुरा रही थी, घर दो मंजिला था जिसके ऊपरी मंजिल पर दोनों खड़े थे तो किसी के आने की यहां संभावना नहीं थी और दोनों ड्रिंक्स लेकर मस्त हो गए तो मैं ग्लास रख रूपम को अपने बाहों में लेकर चूमने लगा तो वो मेरे गर्दन से लेकर चेहरा चूम रही थी, मेरा हाथ उसके नितम्ब पर था जिसे सहलाते हुए मैं रूपम के ओंठ पर ओंठ रख चुम्बन देने लगा तो वो खुद ओंठ को मुंह में डाल दी जिसे चूसता हुआ उसके चूतड के मांसल हिस्से को पकड़ दबाने लगा तो रूपम ओंठ को मुंह से निकाल मेरे कंधे पर सर रख दी ” क्या हुआ जानू
( वो मेरे पीठ सहलाने लगी ) कुछ नहीं उनकी बहुत याद आती है
( मैं उसके पीठ सहलाते हुए चेहरा को सीधा किया ) क्या कर सकती हो इसलिए तो जमकर लाईफ एंजॉय करो ” और वो मेरे ओंठ चूमने लगी तो मैं उसके चूतड के दरार में उंगली रगड़ने लगा फिर वो अपनी जीभ निकाल मेरे ओंठ को चाटने लगी तो मैं उसकी जीभ मुंह में लिए चूसने लगा, वो मेरे छाती से बूब्स रगड़ते हुए मस्त थी तो मैं उसके चूतड को सहलाते हुए और कुछ पल में ही उसने जीभ निकाल लिया ” बोलो तो चूस दूं
( मैं उसके नाईटी को पकड़ उपर उठाने लगा ) क्या चूसोगी जानेमन
( वो कान के पास फुसफुसाई ) तुम्हारा लन्ड और क्या ” फिर रूपम मेरे सामने घुटने के बल बैठ गई तो मैं अपना पैजामा का नाड़ा खोल अर्ध नग्न हो गया और वो मेरे लन्ड को पकड़ चूमने लगी तो मैं छत के रेलिंग पर एक पैर रख दिया और वो मेरे लन्ड के सुपाड़ा को मुंह में लिए चूसने लगी तो मैं इधर उधर देख रहा था की कहीं कोई इधर हम दोनों को ढूंढता हुआ ना आ जाए, तभी रूपम मेरे अर्ध रूप से टाईट लन्ड को मुंह में लेकर चूसने लगी तो उसके मुंह का प्यार पाकर मेरा लन्ड टाईट होने लगा और मैं उसके बाल पकड़ मुंह में पूरा लन्ड घुसाने लगा जिसे वो मुंह में भर चूसने लगी।
मैं और रूपम छत पर थे और वो मेरे कमर में हाथ डाले चेहरा आगे पीछे करते हुए मुखमैथुन करने लगी तो मैं उसके बाल पकड़ मुंह में ही धक्का देने लगा और कुछ देर बाद रूपम मुंह से लन्ड निकाल चाटने लगी तो मैं खड़ा था, वो मेरी ओर देखी फिर सुपाड़ा को ओंठ पर रगड़ते हुए मुंह में ले ली और दुबारा लन्ड मुंह में लिए चूसने लगी तो मैं मस्त हो रहा था, शाम के ०७:३० बजें होंगे और थोड़ा बहुत अंधेरा भी था फिर भी रूपम मेरे लन्ड को चूसते रही, थोड़ी देर के बाद मैं आहें भरने लगा ” आह ओह उह अब छोड़ मेरी रानी
( वो मुंह से लन्ड निकाल जीभ से चाटने लगी ) क्यों मेरे भैया लगता है आपका ये पप्पू उल्टी करने वाला है ” मैं चुप रहा और वो उठकर खड़ी हो गई तो मैं पैजामा पहन लिया, लन्ड तो फुंफकार रहा था और अब रूपम मेरे सामने खड़ी हुई फिर ओंठ चूमने लगी तो मैं उसके चूतड को सहलाता हुआ पूछा ” आज की रात तेरी गांड़ चोदूंगा
( वो हंस दी ) क्यों नहीं मेरे सैंया लेकिन यहां पर अभी क्या करोगे ” मैं उसके साथ नीचे आया लेकिन उसके पहले ही आगे का प्लान बना लिया, मैं रूम चला गया तो मॉम रूपम से पूछी ” किधर घूम रही थी
( वो बोली ) छत पर भैया के साथ टहलते हुए बातें कर रही थी ” और वो भी कमरे में चली गई तो मैं अपने रूम में लेटा हुआ रात होने का इंतजार कर रहा था, व्हिस्की की बोतल और कोल्ड ड्रिंक्स भी वहीं छोड़ आया था और फिर रात के ०९:१५ बजे मॉम ने खाने के लिए बुलाया तो मैं बोला ” आप लोग खाना खा लिजिए मैं बाद में खाऊंगा ” फिर बेड पर लेटा रहा, थोड़ी देर बाद डाइनिंग हॉल में झांका तो रूपम भी वहां नहीं थी और फिर लगभग १०:३० बजे मेरे रूम में रूपम आई तो मैं पहले से ही एक पैक लगाकर मस्त था और वो मुझे बेड पर लेटे देखकर बोली ” मुझे भी पीने का मन है भैया
( मैं हंस दिया ) क्यों नहीं यहीं है पीने के लिए व्हिस्की ” और वो दूसरे नाईटी में थी, दरवाजा को बंद कर मेरे बेड के किनारे बैठी तो मैं उठकर बैठा फिर उसके चूची पर हाथ लगाए दबाने लगा तो रूपम अपना चेहरा पीछे करते हुए मेरे गाल चूम ली ” इतनी भी जल्दी क्या है डियर पहले थोड़ी व्हिस्की पी तो लूं ” और उसे इशारे से बोतल दिखाया तो वो ग्लास में व्हिस्की और कोल्ड ड्रिंक्स डालकर पीने लगी, मैं उसके बूब्स को दबाता हुआ गर्दन चूम रहा था और रूपम ड्रिंक्स लेकर उठी ” क्या है मेरे भैया, दो प्लेट में खाना ले आती हूं क्यों
( मैं बोला ) ठीक है ले आओ ” मैं उठकर वाशरूम घुसा फिर फ्रेश होकर निकला तो रूपम उधर से आकर खाना को टेबल पर रखी फिर उसने दरवाजा बंद किया तो मैं बेड पर लेट गया, वो बेड के पास खड़ी हुई फिर खुद से नाईटी उतार अर्ध नग्न हो गई और मेरे करीब बैठकर मेरे छाती को सहलाने लगी तो मैं उसके बूब्स पकड़ दबाने लगा फिर उसके पेंटी पर उंगली रगड़ते हुए चूत को कुरेदने लगा तो रूपम खुद ही पेंटी हटाई और नग्न हुए मेरे मुंह पर बैठ गई। रूपम के चूतड के नीचे मेरा चेहरा था तो वो घुटनों के बल जांघें फैलाई बैठी हुई थी, मैं उसके चूत को उंगली से सहलाने लगा ” तेरी बूर पहले से निखर गई है रूपम
( वो बोली ) हां एक दो कॉलेज स्टूडेंट के साथ मेरा अफेयर है इसलिए चूत को साफ सफाई से रखती हूं ” और मैं उसके कमर मे हाथ डाल चेहरा ऊपर किया फिर बूर को चूमने लगा तो रूपम खुद चूतड को थोड़ा नीचे कर मुझे चाटने का न्यौता दी, उसकी ढीली चूत में जीभ घुसाए चाटना शुरू किया तो रूपम मेरा एक हाथ पकड़ अपने चूची पर लगा दी जिसे मैं दबाने लगा साथ ही जीभ से बूर को लपालप चाटे जा रहा था तो रूपम सिसकने लगी ” आह ओह उह उई बूर से रस निकल जाएगा भैया अब चाटना छोड़ो ” फिर भी मैं चूत को चाटता रहा और कुछ देर में ही चूत से रस निकलने लगा तो मैं उसे जीभ से चाटकर चेहरा नीचे किया, रूपम मेरे बगल में लेट गई और छाती पर हाथ फेरते हुए बोली ” क्या आज दूध पीने का मन नहीं है
( मैं नासमझ की तरह बोला ) व्हिस्की के बाद दूध
( वो हंस दी तब उसके बात का मतलब समझ सका ) क्यों नहीं अभी चूसता हूं साली ” और मैं उसके छाती के ऊपर चेहरा कर उसके चूची को पकड़ मुंह में लेकर चूसने लगा तो वो मेरे पीठ सहलाते हुए मस्त थी, मेरा लन्ड तो टाईट होकर चूत में घुसने को तैयार था फिर भी चूची चूसने के बाद ही रूपम को चोदता या उसकी गांड़ चोदता और अब उसकी दूसरी चूची को पकड़ उसके निप्पल को जीभ से चाटने लगा तो रूपम आहें भरने लगी ” आह ओह उह उई बहुत खुजली हो रही है डियर अब डालो ना
( मैं उससे पूछा ) क्या आगे से या पीछे से डालूं ” वो इशारे से दोनों छेद में डालने को बोली…
मैं बेड पर से उतरा फिर टॉवल कमर से लपेटे रूम से निकला, वैसे भी रात के ११:०० बजे सब अपने रूम में गहरी निंद्रा में होंगे और फिर रेफ्रिजरेटर से बटर की टिकिया निकाला और रूम में आया तो रूपम तन पर चादर ओढ़े लेटी हुई थी और मैं दरवाजा बंद कर बेड पर बैठा फिर उसके बदन पर से चादर हटाकर उसे बोला ” अब पट लेट जा मेरी रानी
( रूपम उल्टा हो गई तो मैं उसके कमर के नीचे तकिया लगाया और चूतड सहलाने लगा ) सही में खरबूजे की फांक की तरह तेरी चूतड है जान ” और फिर चूतड को चूमने लगा, उसकी चूतड बेड से थोड़ा ऊपर था तो मैं उसके गांड़ के दरार में बटर की टिकिया रगड़ने लगा साथ ही उसकी चूत में दो उंगली घुसाए कुरेदने लगा, उसके चूतड की दरार से छेद तक बटर लगाया फिर जीभ से चाटने लगा तो वो सिसकने लगी ” तुम तो काम क्रिया में उस्ताद हो भैया
( मैं दरार में जीभ फेरता हुआ बूर को कुरेद रहा था ) हां मेरी बहना मुझे तो मां हो या बहन सबमें सिर्फ काम रस ही दिखती है ” और फिर मैं बटर की टिकिया को गांड़ मे घुसा दिया, कुत्ते की तरह जीभ से छेद को चाटने लगा तो रूपम सिसकने लगी ” आह ओह उह उई अब चोद साले बहंचोद ” तो मैं उसके कमर के नीचे से तकिया हटाया और बोला ” चल डॉगी स्टाइल में हो जा ” रूपम बेड पर घुटने और कोहनी के बल हो गई तो मैं उसके चूतड के सामने बैठा फिर उसकी जांघो को फैलाकर बूर और गांड़ के छेद को उंगली से टटोला और अब रूपम पीछे मुड़कर बोली ” बारी बारी से डालना मेरे सैंया
( मैं लन्ड पकड़े गांड़ के छेद में घुसाने लगा ) आह ओह बहुत मजा आ रहा है ” और में उसके गुदाज अंग में जोर का धक्का दे दिया तो लन्ड उसकी टाईट गांड़ के अंदर था लेकिन रूपम चिल्ला उठी ” उई मां फाड़ देगा क्या आराम से चोद साले कुत्ते
( मेरा लन्ड गांड़ में गपागप अंदर बाहर हो रहा था ) जरूर मेरी बहना तुझे तो रात भर चोद चोदकर मस्त कर दूंगा *और फिर उसके गांड़ में लन्ड घुसाए मैं धकाधक चोदे जा रहा था तो रूपम अब अपने चूतड को हिलाना शुरू की और दोनों काम की दुनिया में खो चुके थे, उसकी गांड़ जिसमें बटर डाल दिया था का चिपचिपाहट खत्म होने लगा तो मैं भी लन्ड बाहर कर उसकी चूत में घुसाने लगा, पूरा लन्ड एक ही बार में डालकर चोदने लगा तो रूपम चूतड हिलाते हुए चुदवाने में लीन थी ” और तेज चोद चोदकर रण्डी बना दे
( मैं उसके बूर जोकि रसीली थी में लन्ड डाले स्थिर था बाकी वो खुद चूतड को हिलाते हुए लन्ड का मजा ले रही थी ) जरूर मेरी रानी तेरी चूत और गांड़ मे लन्ड डाले रहूंगा ” रूपम की चूत में लन्ड डाले धकाधक चुदाई कर रहा था तो वो अपने चूतड को हिलाते हुए मस्त थी, उसकी चूत चाटा तो लन्ड चुस्वाया फिर गांड़ और बूर चुदाई में लीन हो गया लेकिन दोनों खाना तक नहीं खाए थे, मुझे उसके तन की भूख थी तो उसे मेरे तन की और दोनों मस्त थे फिर मैं लन्ड निकाल फ्रेश होने चला गया तो रूपम बेड पर चित लेट गई।
फ्रेश होकर वापस आया तो रूपम मेरे टाईट लन्ड देखते हुए बोली ” किस किस की चूत में गया है मेरे भैया
( मैं उसके जांघो को फैलाकर लन्ड पकड़े बैठा ) डार्लिंग मेरी चारों बहनें… विनीता, रिमझिम, रेखा दीदी और तुम मुझसे चुदवा चुकी हैं बाकी कई और हैं लेकिन रिश्ते में नहीं
( रूपम अचंभित हो गई ) क्या विनीता भी आपके साथ चुदाई का मजा ली ” तो मैं चुप रहा और लन्ड को चूत में घुसाए चोदने लगा तो वो जांघें फैलाए चुदवा रही थी फिर मैं उसके बदन पर लेटकर चोदने लगा, उसके चेहरे को चूमता हुआ उसके बूब्स का एहसास अपने छाती पर पा रहा था तो रूपम मेरे पीठ सहलाते हुए चूतड उछालना शुरू की फिर तो दोनों चुदाई में मस्त हो गए ” आह ओह उह मेरे सैंया और तेज चोद ना आह बहुत मजा आ रहा है
( मैं उसके चूत की गर्मी से समझ चुका था की साली जल्द ही रस छोड़ेगी ) लेकिन मेरी रानी रस चूत में या गांड़ में ” वो इशारे से गांड़ बताई ” तो मैं उसके जांघों के बीच लन्ड पकड़े बैठा और रूपम दोनों जांघों को हवा में उठाए मेरे कंधे पर पैर रख दी तो उसकी गांड़ बेड से थोड़ा ऊपर था, मैं अब उसके गांड़ में लन्ड घुसाया फिर आधा लन्ड घुसते ही जोर से धक्का देकर चोदने लगा तो रूपम चिल्ला उठी ” आह उह फाड़ दिया आराम से चोद
( मेरा लन्ड गांड़ में गपागप अंदर बाहर हो रहा था ) हां मेरी स्वीटहार्ट तुझे तो जल्द ही किसी होटल में दो चार दोस्तों से चुदवाऊंगा
( रूपम बोली ) उसका इंतजार रहेगा भैया ” मैं तो उसकी चूत ७-८ मिनट तक चोदा था साथ ही गांड़ में भी लन्ड पेला था तो जल्द ही मेरा लन्ड सुस्त पड़ने वाला था, इसलिए उसके दोनों पैर पकड़े उसकी गांड़ में लन्ड पेलता हुआ हांफने लगा तो रूपम भी आहें भर रही थी ” आह ओह उह मेरी गांड़ पर रहम कीजिए ना उसके अंदर की आग बुझा दीजिए प्लीज
( मैं धक्का देता हुआ बोला ) ले अब निकल गया रस ” फिर मेरा लन्ड रूपम की गांड़ में वीर्य गिराकर सुस्त पड़ गया तो मैं लन्ड निकाल उसके मुंह के पास बैठा और उसके मुंह में लन्ड डाल उसे विर्यपान करा दिया फिर फ्रेश होकर वो नाईट गाऊन पहनी और अपने रूम चली गई तो मैं भी फ्रेश होकर खाना खाया फिर सो गया।

This content appeared first on new sex story .com

This story चचेरी बहन के साथ मस्ती : भाग ३ appeared first on dirtysextales.com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments