Skip to content

भैया संग हमबिस्तर हुई : आकांक्षा

फ्रेंड्स
मैं आकांक्षा अग्रवाल, उम्र २० वर्ष, कद ५’५ इंच, छरहरा बदन, गोल और गद्देदार चूतड तो चूचियां मानों टेनिस बॉल के जोड़े हों और चूत की फांकें मोटी तो बारमुक्त चूत टाईट और साल भर से मैं सेक्स का मजा ले रही हूं लेकिन सिर्फ अपने भैया विशाल के साथ ही चूदाई हूं, आज शाम तो विशाल और तारा के लाइव सेक्स शो को देख तड़प उठी फिर मैं डाइनिंग हॉल में बैठ विशाल से बोली ” क्यों भैया तेरा कब से तारा के साथ चक्कर चल रहा है
( वो हंस दिया ) तुम्हें कैसे मालूम
( मैं बोली ) उसे अपने रूम में लेकर गए थे ना फिर क्या क्या किए सब देख ली
( वो मेरे कंधे में हाथ डाल चेहरा को चूम लिया ) ओह तो ये बात है बेबी अच्छा तो फिर तुम्हें भी मिलेगा
( विशाल का हाथ मेरे बूब्स पर था जिसे वो दबाने लगा ) तेरा भी किसी के साथ कोई लफ़ड़ा है क्या
( मैं उसके गाल चूम ली ) ऊहुं आज तक मेरे बदन पर सिर्फ तुम्हीं हाथ लगाए हो ” और थोड़ी देर बाद विशाल मुझे छोड़ अपने रूम चला गया तो मॉम और डैड भी घर आ गए, मुझे मालूम नहीं था की विशाल मेरे लिए एक क्वार्टर व्हिस्की लाया है, बाहर से खाना रात के ०९:०० बजे आ गया फिर मॉम और डैड साथ में खाना खा लिए तो भैया और मैं खाना नहीं खाई, मैं अपने रूम में ही व्हिस्की ग्लास में डाल उसमें कोल्ड ड्रिंक्स मिलाए पीने लगी तो कुछ देर बाद मैं नशे में चूर थी और फिर विशाल रूम में आया, मुझे देख पूछा ” क्या हाल है बेबी बेड पर पीकर लुढ़क गई हो
( मैं हंस दी ) हां आज तो दो पैक पीकर ही नशे में चूर हो गई
( विशाल मेरे पैर के पास बैठ पैर को सहलाने लगा ) कोई बात नहीं सब नशा उतार दूंगा ” और वो मेरे नग्न पांव पर हाथ फेरने लगा, मैं तो मिनी स्कर्ट और टॉप्स पहन रखी थी तो विशाल मेरे स्कर्ट को कमर तक किए जांघों पर हाथ फेरने लगा और मैं बेड पर लेटी हुई खुद ही टॉप्स को गर्दन से बाहर कर दी, मेरी नग्न चुचियों को पकड़ वो दबाने लगा और फिर मेरे स्कर्ट को भी उतार दिया, अब मैं सिर्फ पेंटी पहन रखी थी तो विशाल मेरे बदन पर सवार हुए मेरे चेहरे को चूमने लगा और मैं भी उसके गाल चूमते हुए पीठ को सहलाने लगी ” ओह विशाल तुम तो आज मुझे काफ़ी दुखी कर दिए
( विशाल मेरे ओंठ चूम लिया ) क्यों बेबी क्या हुआ
( मैं उसके ओंठ चूम ली ) तुमको तारा के साथ सेक्स करते देख मेरा मन टूट गया
( विशाल अब मेरे ओंठ को चूम रहा था ) बेबी इसमें बुरा मानने वाली क्या बात है तुम भी अपने बॉयफ्रेंड के साथ मजा करो ” फिर मेरे रसीले ओंठ मुंह में भर चूसने लगा तो मैं उसके पीठ को सहलाते हुए मस्त थी। विशाल के बदन के नीचे लेटकर उसके मुंह में ओंठ डाले चुसवा रही थी फिर उसका चेहरा पीछे कर ओंठ मुंह से निकाल ली तो विशाल मेरे गर्दन को चूमते हुए नग्न जिस्म पर नीचे की ओर जाने लगा और फिर चूची को पकड़ अपने मुंह में लिए चूसने लगा तो मैं आहें भरने लगी ” आह उह उई अपनी मॉम का दूध पी रहा है बेटा
( वो चूची मुंह से निकाल लिया ) हां मेरी मॉम अब दूसरे चूची का दूध पीता हूं ” और वो दूसरे स्तन को मुंह में लिए चूसने लगा तो मैं उसके टाईट लन्ड का एहसास अपने जांघों के बीच पा रही थी वैसे विशाल शॉर्ट्स पहने हुआ था फिर मैं उसके कमर पर हाथ रख शॉर्ट्स को नीचे करने लगी तो वो चूची मुंह से निकाल दिया और शॉर्ट्स को उतार नंगा हो गया।
मैं बेड पर उठकर बैठी तो विशाल मुझे गोद में बिठाया फिर मैं उसके कमर से पैर लपेट बिलकुल ही काम आसन में उसके गोद में बैठ उसके गाल चूमने लगी और वो मेरे चूतड पर हाथ फेरने लगा फिर मेरे ओंठ चूम मुंह खोला तो मैं उसके मुंह में जीभ घुसाई और वो मुझे बाहों में लिए जीभ चूसने लगा लेकिन उसका एक हाथ मेरी चूतड के नीचे बुर को सहलाने लगा और मैं उससे लिपटे जीभ चुस्वाने में मस्त थी, चूत में तो खुजली होने लगी और विशाल का लन्ड मेरी कमर से चिपका हुआ था बिल्कुल ही लोहे की रॉड की तरह टाईट और विशाल मेरे चूत में उंगली डाल कुरेदने लगा तो मैं जीभ चुसवाते हुए उसके छाती से बूब्स को रगड़ रही थी फिर वो जीभ निकाल पूछा ” तुम क्या छुपकर मेरे और तारा का लाइव सेक्स शो देख रही थी
( मैं सर हिलाकर हामी भरी ) ठीक है वैसे तुम्हें भी किसी और के साथ सेक्स करना चाहिए ” मेरी चूत में तो गुदगुदी हो रही थी और मैं बेड पर लेट गई तो विशाल मेरे जांघो को फैलाया फिर चूत पर मुंह लगाए चूमने लगा और मैं उसके चुम्बन से तड़प रही थी ” आह ओह उह आआह्हह्ह चाट मेरी चूत चाट साले ” और फिर विशाल मेरी चूत को उंगली से फैलाया और जीभ घुसाए चाटने लगा तो मैं अपने जांघों को फैलाए मस्त थी ” आहा ओह उह अब नहीं ओह मेरी चूत से रस निकला ” फिर मेरी चूत रसीली हो गई तो भी विशाल उसे चाटता रहा और मैं सुस्त पड़ गई थी, फिर मैं उठकर नंगे ही फ्रेश होने गई और फ्रेश होकर आई तो विशाल लेटा हुआ था, उसका लंबा मोटा लन्ड टाईट होकर फुंफकार रहा था जिसे मैं पकड़ चूमने लगी और अब उसके लन्ड का सुपाड़ा मुंह में लिए चूसने लगी, विशाल हाथ बढ़ाए मेरे चूची को पकड़ दबाने लगा तो मैं मुंह खोल भैया के लन्ड अंदर ली फिर चूसने लगी, आधा से अधिक लन्ड मुंह में था जिसे चूसते हुए मैं मस्त थी तो विशाल मेरी चूची को दबाए जा रहा था और मैं मुंह में लन्ड लिए चेहरा का झटका देते हुए मुखमैथुन करने लगी और विशाल ” आह उह ओह आआआह्ह्ह मजा आ गया बेबी
( मैं लन्ड मुंह से निकाल दी ) हां तब भी तो घर की बाई के साथ सेक्स करते हो
( विशाल बोला ) सॉरी यार अब नहीं करूंगा लेकिन मेरी कोई गर्ल फ्रेंड नहीं तेरा कोई बॉय फ्रेंड नहीं
( मैं लन्ड को जीभ से चाटने लगी ) ठीक है तो फिर मैं तुम्हें अपनी सहेली से मिलवा दूंगी और तुम अपने दोस्त से मिलवा देना क्यों ” फिर मैं लन्ड को चाटने लगी तो विशाल उठकर बैठ गया।
मुझे बाहों में लिए चूमने लगा तो मैं उसके जांघ पर चूतड रख बैठ गई और उसके कंधे में बाहें डाल गाल चूम ली ” क्यों एक एक पैक हो जाए
( विशाल मेरे चूची को पकड़ दबाने लगा ) जरूर ड्रिंक्स बनाओ फिर छत पर चलते हैं ” तो मैं बदन पर एक नाईटी डाल ली फिर दो ग्लास में ड्रिंक्स बनाई और भैया अपने रूम से सिगरेट की पैकेट और माचिस लिए, दोनों छत पर चले गए और विशाल छत के गेट को बंद कर दिया, हल्की ठंडी हवा चल रही थी लेकिन बदन में तो आग लगी हुई थी, अब विशाल सिगरेट जलाया फिर दोनों ड्रिंक्स लेने लगे तो वो बोला ” यहीं पर घोड़ी बन जाना फिर तेरी….
( मैं उसके हाथ से सिगरेट लेकर फूंकने लगी ) लेकिन विशाल फिलहाल तो वो दवाई लाना भूल गई
( विशाल हंस दिया ) तो क्या हुआ डार्लिंग, बाहर ही गिरा दूंगा ” फिर वो मेरे हाथ से सिगरेट लेकर फूंकने लगा तो मैं छत पर आने से ही चूत में गर्भ निरोधक दवाई घुसा चुकी थी और फिर ड्रिंक्स लेते ही मैं सीढ़ी घर के दीवार के सहारे दोनों हाथ रख घोड़ी बन गई तो विशाल मेरे चूतड के सामने खड़ा हुआ फिर नाईटी को कमर तक किए अपना शॉर्ट्स उतार दिया, छत पर तो स्ट्रीट लैंप की रोशनी ही आ रही थी साथ ही चांद की तो मैं पीछे मुड़कर बोली ” विशाल मैं दवाई डाल चुकी हूं
( वो मेरे बुर में लन्ड घुसाने लगा ) ठीक है बेबी तो मैं भी अपना लौड़ा तेरी चूत में डाल रहा हूं आराम से चूदाई का मजा लेना ” फिर उसका आधा लन्ड घुसते ही मेरी चूत में दर्द होने लगा लेकिन विशाल मेरी कमर को पकड़े जोर का धक्का दे मारा ” उई मां मर गई, फट गई मेरी चूत ” और वो दुबारा तेज धक्का देकर चोदने लगा तो उसकी लन्ड मेरी चूत में पूरी तरह से फंस चुकी थी फिर भी वो धीरे धीरे धक्का देने लगा और मैं भी चूदाई के दर्द के साथ मजा लेने लगी, अब कमर को हिलाना शुरु की तो विशाल भी तेज गति से चोदने लगा और अब मैं चूदाई का मजा ले रही थी तो विशाल मेरी चूची को पकड़ दबाने लगा ” आह उह ओह आआआआह्हह् तेजी से चोद फाड़ दे मेरी चूत ” और विशाल धक्का देता हुआ मेरी चूत को संतुष्ट करने में लगा हुआ था, चूत तो दवाई के कारण चिपचिपी हो चुकी थी लेकिन उसके धक्के से चूत की गर्मी बढ़ने लगी और मैं चूतड को तेजी से हिलाते हुए मस्त थी ” आह ओह अबे साले कुत्ते चोद चोदकर चूत का कचूमर निकाल दे उह आह इस सी ” तो विशाल चोदता हुआ मेरे पीठ सहलाने लगा और मैं तो चूतड स्थिर किए मस्त थी, अब विशाल धीमे गति से चोदने लगा तो मैं चूतड हिलाना शुरू कर दी और वो मेरे चूची को पकड़ दबाने लगा ” बस एक दो मिनट की बात है रानी
( मैं बोली ) ठीक है तो तेजी से चोद ना क्या सुस्त गति से धक्का दिए जा रहा है ” और वो धक्का देते हुए हांफने लगा तो मैं चूतड को तेजी से हिलाने लगी, कुछ देर बाद चूत में लन्ड ने वीर्य स्खलित कर दी तो मैं और मेरी चूत तृप्त हो गई, कुछ देर बाद वो लन्ड को चूत से निकाल लिया तो मैं उसी नाईटी से चूत साफ की फिर नीचे आकर अपने रूम गई और वाशरूम में कपड़ा उतार नंगी हुई और स्नान कर शॉर्ट्स और टी शर्ट पहन ली फिर दोनों साथ में खाना खाए और अपने अपने रूम में जाकर सो गए।

This story भैया संग हमबिस्तर हुई : आकांक्षा appeared first on new sex story dot com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments