Skip to content

माया की गर्म जवानी – Dirty Sex Tales

फ्रेंड्स
मैं माया शर्मा, उम्र ३६ वर्ष, लंबाई ५’६ इंच, चेहरा सुंदर तो बूब्स मध्यम आकार के साथ ही चूतड गोल और गद्देदार तो मोटी चिकनी जांघों के बीच चूत जिसकी फांकें मोटी और चूत तो ढीली हो चुकी थी, मेरे दो बच्चे बेटी गरिमा १३ साल की तो बेटा ११ साल का और मैं पति के संग हमबिस्तर होकर अब बोरियत महसूस करने लगी, वैसे भी उनको चूत चोदने से अधिक मजा गांड़ चोदने में आता था और मैं अब किसी गैर मर्द की तलाश में थी जोकि मेरे तन की आग बुझा सकता। मैं अपने पति और बच्चे के साथ नोएडा के सेक्टर ४२ में रहती हूं जहां की अपार्टमेंट के तीसरे मंजिल पर हमारा घर है और घर के सामने दूसरे फ्लैट में खन्ना जी का परिवार रहता था जिनका बेटा मोहित मुझे काफी अरसे से घूर रहा था लेकिन मैं उसे कभी करीब नहीं आने दी, शाम को मैं प्रायः बच्चों के साथ पार्क में घूमा करती थी और फिर एक शाम जब मैं पार्क में घूम रही थी तभी मोहित भी मुझे दिखा, उसकी उम्र २४ साल होगी तो कद ६’० फीट साथ ही कसरती बदन और देखने में हेंडसम बंदा और मेरे दोनों बच्चे पार्क में अपने दोस्तों के साथ खेल रहे थे तो मोहित और मैं दोनों ही पार्क में बने सड़क पर टहल रहे थे तो मैं उसे बोली ” मोहित तुम मुझे हमेशा ही घूरते रहते हो क्या बात है
( वो हंस दिया ) नहीं आंटी ऐसी कोई बात नहीं है
( मैं गुस्से से आग बबूला हो गई ) क्या मैं तुम्हें आंटी लगती हूं
( वो मुझे देख बोला ) सॉरी फिर भाभी बोलूं चलेगा ” मैं तो सलवार और सूट पहन रखी थी ” तुम मेरे सवाल का जबाब नहीं दिए
( मोहित बोला ) क्या बोलूं हर सवाल का जवाब नहीं दिया जा सकता उसे तो आंखों की भाषा ही समझ सकती है
( मैं बोली ) ओह समझ गई की तेरी चाहत क्या है क्यों
( मोहित चुप रहा ) ओके तो अपना मोबाइल नम्बर दे दो फिर बातें होगी
( मोहित अपना मोबाइल नम्बर बोला तो मैं अपने मोबाइल में डायल कर उसके नंबर पर रिंग की ) माया भाभी बोलिए कब आपसे मिलूं
( मैं बोली ) अभी तो साथ ही हो फिर मिलने की बात कर रहे हो ” वो मेरे जबाब सुनकर दुखीः हुआ फिर पार्क से निकल गया तो मैं भी कुछ देर बाद बच्चों को लिए फ्लैट चली गई। रात तो खाना खाकर सोने में ही बीत गई लेकिन मैं मोहित के मंशा से वाकिफ थी और शादी के १५ साल बाद इस सोच में डूबी हुई थी की मोहित के साथ शारीरिक संबंध बनाया जाए या नहीं, अगले सुबह पति और बच्चों के लिए नाश्ता तैयार की फिर उन लोगों के जाते ही कामवाली बाई आई तो मैं उसे चाय बनाने को बोली और फिर दोनों चाय पीने लगे, इतने में मेरी मोबाइल रिंग होने लगी तो मैं उठकर रूम गई जहां मोबाइल रखा हुआ था और कॉल रिशिभ की ” हां बोलो
( मोहित बोला ) अभी आप तो अकेले होंगी और फ्री भी
( मैं बोली ) नहीं एक घंटे बाद कॉल करना ” फिर मैं चाय पीकर स्नान करने चली गई, काफी दिनों से कांख के बाल हो या चूत पर के बाल को साफ नहीं की थी इसलिए वाशरूम घुस नंगी हुई फिर झरना चालू कर स्नान करने लगी, बदन भींगते ही बॉडी वाश लगाई फिर कांख और चूत पर हेयर रिमूवर क्रीम लगाकर रगड़ने लगी, मेरे पति तो अब महीना में एक बार ही बेड पर संतुष्ट करते थे लेकिन मेरी कामुकता हमेशा चरम पर होती, एक ओर मोहित की नजर मेरे जिस्म पर थी तो दूसरी ओर मैं ऐसे सम्बन्ध बनाने से घ्बड़ा रही थी फिर भी स्नान करते वक्त यही सोच रही थी की एक बार मोहित के साथ शारीरिक संबंध बनाया जाए, मैं स्नान करके रूम में आई फिर स्कर्ट और टॉप्स पहन ली, नाश्ता करके डाइनिंग हॉल में बैठ टी वी देखने लगी तो कामवाली भी काम करके चली गई तो मैं मोबाइल लिए इस असमंजस में थी की मोहित को कॉल करूं या नहीं फिर सोची क्यों ना उसे कॉल किया जाए, कॉल की तो वो बोला ” हां भाभी बोलिए
( मैं बोली ) तुम कब आ रहे हो
( वो बोला ) आधे घंटे में
( मैं बोली ) ठीक है लेकिन अपने घर वाले के नजर से बचकर आना ” फिर मैं बेड पर जाकर लेट गई
मैं तो आसमानी रंग की टॉप्स साथ ही ब्लैक रंग की स्कर्ट पहने लेटी हुई थी साथ ही काले रंग की पेंटी से चूत को ढक रखी थी, कुछ देर बाद डोर बेल बजने लगा तो मैं उठकर गई फिर दरवाजा खोली तो मोहित अंदर घुसा और उसके हाथ में एक बैग भी था, मैं दरवाजा बंद की फिर उसे बोली ” बैठो मोहित कहां से आ रहे हो
( वो बोला ) मैं मार्केट गया था ” और वो बैग से एक डब्बा निकाल मुझे दिया ” इसमें क्या है
( वो मुस्कुराने लगा ) खुद खोलकर देख लीजिए और पहनकर दीखाइये ” मैं उसके सामने खड़ी थी फिर डब्बा खोल ड्रेस निकाली और उसे देख हंस दी ” ओह तो ये बेबी डॉल ड्रेस मेरे लिए क्यों
( वो बोला ) हां माया
( मैं बोली ) अच्छा तो इस ड्रेस को पहन मैं तुम्हें अपना नग्न बदन दिखाऊं लेकिन तुम तो देखकर मानोगे नहीं ” और मैं बेझिझक उसके सामने ही टॉप्स और स्कर्ट उतार सिर्फ पेंटी में खड़ी रही तो मोहित उठकर मेरे सामने आया और मुझे बाहों में लिए ओंठ चूमने लगा तो मैं उसके पीठ पर हाथ रख उससे लिपट गई। मोहित मेरे से लिपटे हुए मेरे गाल चूमने लगा तो मैं उसके बदन को सहलाते हुए शर्ट को उतारने लगी, तो मोहित मेरे रसीले ओंठ पर चुम्बन देने लगा और फिर खुद कपड़ा उतार फैंका तो वो चढ्ढी में और मैं पेंटी में थी, अब मोहित मेरे बदन को घूरने लगा तो मैं शरम के मारे चेहरा झुकाई और खड़ी थी तो वो मेरे चूची को पकड़ दबाने लगा ” साईज तो बड़ी है लेकिन टाईट है भाभी
( मैं उसके गाल चूम ली ) भाभी नहीं माया बोलो ” और मैं उसके चढ्ढी पर से लन्ड के उभार को पकड़ दबाने लगी तो वो मेरे गाल चूमने लगा, उसकी बाहों में सिमटकर मैं अपनी झिझक दूर की तो वो मेरे चेहरे को चूमने लगा साथ ही उसका हाथ मेरे चूतड की गोलाई को माप रहा था, दोनों एक दूसरे को चूमने में लगे हुए थे तो वो मेरे लम्बे काले जुल्फों को पकड़ चेहरा को सीधा किया फिर ओंठ पर ओंठ रख चुम्बन देने लगा तो मैं उसके छाती से बूब्स रगड़ते हुए उसकी पीठ सहलाने लगी और फिर मोहित मेरे ओंठ मुंह में लिए चूसने लगा, उसके आते ही दोनों एक दूसरे के सामने नग्न हो जायेंगे उम्मीद नहीं थी और वो मेरे रसीले ओंठ चूसता हुआ गांड़ के दरार में उंगली रगड़ने लगा, मैं अब उसके मुंह से जीभ निकाल उसके कंधे पर सर रखी तो वो मेरे पीठ सहलाने लगा ” माया तुम बहुत सेक्सी और हॉट हो
( मैं उसके गाल चूम ली ) मेरे लिए बेबी डॉल ड्रेस लाएं हो लेकिन मेरे पति जान गए तो ” दोनों सोफा पर बैठ गए, मुझे तो शर्मिंदिगी महसूस हो रही थी सो पास पड़े टॉवल को उठा अपने जांघो पर रख ली मोहित बैग से व्हिस्की की बोतल निकाला तो मैं पूछी ” तुम व्हिस्की पीते हो
( वो हंस दिया ) हां आप भी स्वाद लीजिए बहुत मजा आयेगा ” फिर मैं नंगे ही किचन गई और दो ग्लास लेकर आई और मोहित ग्लास में व्हिस्की डालने लगा तो मैं कोल्ड ड्रिंक्स डालते हुए बोली ” मोहित मैं तुम्हारी इच्छा रखने के लिए एक पैक पी रही हूं
( वो ग्लास उठाए बोला ) मैं आपको दुबारा ड्रिंक्स लेने नहीं बोलूंगा वैसे आपकी इच्छा हो तो ” दोनों ड्रिंक्स लेने लगे तो मैं पहले भी व्हिस्की का स्वाद ले चुकी थी और फिर मेरा हाथ उसके चढ्ढी पर था तो मैं लन्ड के उभार को हथेली से सहलाने लगी जबकि मोहित मेरी पेंटी के ऊपर से ही चूत के दरार में उंगली रगड़ने लगा ” लगता है तेरी चूत बिल्कुल ही मेढ़क की तरह फूली हुई है
( मैं ग्लास रख उसके चढ्ढी को कमर से नीचे की फिर उसके लन्ड पकड़ सहलाने लगी ) वाह तेरा औजार तो मोटा है लगता है इसे औरतों और लौंडियां की चूत का रस मिल चुका है
( मोहित मेरे गाल चूम चूची दबाने लगा ) हां लेकिन आपके नग्न जिस्म की कल्पना कर हस्तमैथुन करता आया हूं ” मैं बिना देर किए सोफा पर से उठी फिर एक पैर सोफा पर रख जांघों को फैलाई तो मोहित मेरी पेंटी पर चुम्बन देने लगा और मैं पेंटी की हुक खोल चूत को नग्न कर दी, मोहित मेरी जांघो के बीच चूत पर चुम्बन देने लगा और उसका हाथ मेरे कमर में था तो मैं जांघें फैलाई खड़ी रही, फिर मोहित मेरी चूत को उंगली से फैलाया और उसमें जीभ घुसाए चाटना शुरू किया, वर्षों बाद किसी की जीभ मेरे चूत में थी तो मैं उसके बाल सहलाते हुए आहें भरने लगी ” आह ओह उह चाट मोहित बहुत मजा आ रहा है आह अंदर तक जीभ घुसा मेरी जान ” और उसका जीभ मेरी चूत की गहराई तक चाटे जा रहा था तो मेरे पांव में सिहरन होने लगा साथ ही बदन में आग सी लग गई, मेरी नजर उसके लन्ड पर पड़ी तो वो लंबवत खड़ा था और वो बुर को चाटने में लगा रहा फिर मैं खुद उसके चेहरे को पीछे कर चूत से जीभ निकाल दी।
मोहित सोफा पर बैठा हुआ था तो मैं उसके सामने फर्श पर बैठ लन्ड को पकड़ ली फिर उसे चूमने लगी और मोहित मेरे चूची को पकड़ दबाने लगा ” दो साल से आपको देख रहा हूं लेकिन आप
( मैं उसे देख बोली ) तो क्या करती मोहित, जीवन में पहली बार पति के अलावा किसी के सामने नग्न अवस्था में हूं तो क्या तुम्हें देख तुरंत ही टांग चिहार देती ” फिर मैं मोहित के लन्ड का सुपाड़ा अपने ओंठ पर रगड़ने लगी और वो मेरे बाल पर हाथ फेरता हुआ चूची दबाए जा रहा था फिर मैं उसके लन्ड को मुंह में भर चूसने लगी तो मोहित का लंबा ( १५ सेंटीमीटर ) लन्ड पूरी तरह से मुंह के अंदर नहीं था और मैं मुंह का झटका देते हुए मुखमैथुन करने लगी तो मोहित मेरे बूब्स को दबाते हुए ” आह ओह उह उई माया तू सही में काम की मूर्त है साली वर्षों तक इंतजार करना पड़ा अब तो तू नहीं तैयार होगी तो तेरे साथ जबरदस्ती सेक्स करूंगा
( मैं मुंह से लन्ड निकाल उसे जीभ से चाटने लगी ) अच्छा और मेरा पति जान गया तो
( वो गाल सहला दिया ) तो क्या तुझे भगाकर ले जाऊंगा
( मैं हंस दी ) तेरे से ११-१२ साल उम्र में बड़ी हूं साले, मेरी जैसी अधेड़ उम्र की औरत को बस मजा देते रहना ” और फिर मैं लन्ड मुंह में लिए चूसने लगी तो मोहित सोफा पर बैठा हुआ मेरे पीठ सहलाने लगा और मैं मुखमैथुन करते हुए मस्त थी लेकिन मेरी चूत जल्द ही रस छोड़ने वाली थी तो मैं मुंह में लन्ड लिए कुछ देर तक चूस ली फिर चूत से रस निकलने लगा तो मैं लन्ड मुंह से निकाल उसके सामने से चूतड मटकाते हुए वास्धरुम चली गई फिर मूतने के बाद फ्रेश हुई और आगे क्या हुआ अगले भाग का इंतजार कीजिए।

This story माया की गर्म जवानी appeared first on new sex story dot com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments