Skip to content

मॉम के साथ हफ्ते भर की यात्रा : भाग – १६

हैलो फ्रेंड्स,
राहुल आज सुबह मॉम को चोदकर मस्त हो गया तो दिन भर बुआ और मॉम के साथ मैं घर पर था फिर दिन में खाना और आराम किया तो शाम होते ही अपना ट्रेक सूट पहन बुआ के घर से निकलने लगा तभी बुआ आकर बोली ” किधर जा रहे हो राहुल
( मैं ) थोड़ा घूम फिरकर आता हूं बुआ
( वो हंसने लगी ) ठीक है लेकिन मार्केट से कुछ सामान खरीदते आना
( मैं ) अच्छा क्या लेना है बोलिए
( वो ) आइस क्रीम का पैकेट और साथ में कंडोम
( मैं ) उसका क्या काम है बुआ, आप तो कॉपर टी लगवाई हुईं हैं ” फिर मैं जूता पहन लिया और टहलने चला गया, दरअसल मुझे बियर पीने की इच्छा थी तो तेज गति से चलते हुए पहले तो मार्केट तक गया फिर वहां एक पान दुकान से सिगरेट लेकर पीने लगा, मार्केट में थोड़ी भीड़ थी लेकिन मुझे वाईन शॉप देखा हुआ था और मैं फिर मेडिकल स्टोर जाकर एक पैकेट कोहिनूर कॉन्डम खरीदा, वाईन शॉप से दो केन ठंडी बियर लेकर अपने जेब में भर लिया और वापस बुआ के घर की ओर आने लगा, रास्ते में एक पार्क है तो वहीं सोचा की बैठकर बियर पिया जाए फिर पार्क की ओर चल पड़ा और पार्क में घुसते ही कोई सुनसान जगह ढूंढने लगा और अंततः झाड़ियों के पीछे बैठकर बियर का केन खोला और एक सिगरेट जलाकर पीने लगा, मैं बियर पीने का आदी था तो दो मिनट में एक केन बियर पीकर मस्त हो गया और नशे में मस्त होकर बुआ को फोन किया तो वो फोन रिसीव की ” हां बोल राहुल
( मैं ) तेरे लिए कॉन्डम ले लिया हूं और कुछ चाहिए
( बुआ ) ठीक है फिर घर आ जाओ ” तो मैं पार्क में बैठे सिगरेट फिर से सुलगाया और पीने लगा, एक केन बियर का नशा कुछ खास असर मुझ पर कर नहीं पाया था तो दूसरा केन बियर निकालकर पीने लगा और दूसरे केन बियर पीते ही नशे में मस्त हो गया, मोबाइल में समय देखा तो शाम के ०७:१० हो रहे थे और वैसे भी अभी घर पर जाकर करना क्या है, आराम से घांस पर बैठे रहा और तकरीबन आधा घंटा के बाद वहां से उठकर चल पड़ा, रास्ते में था कि मोबाइल की घंटी बजने लगी, मॉम का कॉल था ” हैलो
( मॉम ) इतनी देर तक घर से बाहर क्या कर रहा है
( मैं ) बस दो चार मिनट में आ रहा हूं ” और फिर घर पहुंचा तो फूफाजी सोफ़ा पर बैठकर टी वी देख रहे थे, मैं उनके सामने बैठकर जूता खोलने लगा ” तो घूम आए
( मैं ) जी फूफा जी
( बुआ उधर से आईं ) चाय पिएगा या कॉफी ” मैं उन्हें कॉफी बनाने बोला और फिर रूम घुसकर अपना ट्रेक सूट उतारने लगा, मॉम बेड पर लेटी हुई थी तो कमर में टॉवेल लपेटकर वाशरूम घुसा फिर फ्रेश होकर बाहर निकला, शॉर्ट्स पहनकर बेड के किनारे बैठा की मॉम पूछी ” तो तुम ट्रेक सूट पहनकर ड्रिंक्स लेने गए थे
( मैं उनकी ओर देखा ) क्या मॉम तुम भी तो बेकार में शक करती हो ” फिर बुआ वहां आकर मुझे कॉफी दी तो मैं कॉफी पीने लगा, आज रात बुआ को चोदना था तो कॉफी पीकर डायनिंग हॉल गया और फिर वहीं बैठकर फूफाजी के साथ कुछ देर तक बातचीत किया। उधर बुआ खाना बनाने में व्यस्त थीं तो मैं किचन गया और बुआ को पीछे से दबोचकर गाल चूमने लगा और वो पीछे मुड़कर देखी ” हाथ में देख रहा है क्या है
( मैं उनके बूब्स दबा दिया ) छोलनी, क्यों अंदर घुसेड़ना है ” तो उनको छोड़कर वापस रूम चला गया और मॉम आंख बंद किए लेटी हुई थी, उनके बगल में लेटकर मैं मॉम के बूब्स को साड़ी पर से ही पकड़कर दबाने लगा तो उनकी आंखें झट से खुली लेकिन वो सिर्फ मुस्कुराती रही और मैं उनके बूब्स दबाता हुआ गाल चूमने लगा, लंड तो बियर पीकर शांत हो चुका था तो राहुल को आज रात बुआ और मॉम दोनों को चोदने की छूट थी लेकिन मॉम की चुदाई सुबह ही कर चुका था फिर मैं मॉम के बदन पर सवार होकर उनके ओंठ चूमने लगा और वो मुझे अपनी बांहों में लिए मस्त होने लगी। नेहा के ओंठ को मुंह में लिए चूसने लगा तो वो मेरे पीठ पर हाथ फेरने लगी और उनकी रसीली ओंठ चूसने के बाद मैं चेहरा सहलाने लगा तो वो ” आज रात गान्ड मारने दूंगी
( मैं ) उहुं, अब कल ही गान्ड चोदूंगा
( वो मेरे ओंठ चूमकर बोली ) क्यों आज रात क्या दिक्कत है ” तभी अपने रूम की ओर किसी के आने की आहट हुई, मैं झट से मॉम के बदन पर से उतरकर बेड पर लेट गया फिर मॉम उठकर डायनिंग हॉल चली गई फिर रात ०९:३० बजे सबने साथ ही खाना खाया पर मैं बुआ को बोला ” मेरे लिए किचन में ही खाना रहने देना, भूख लगेगी तो खा लूंगा ” फिर मैं बियर के नशे में मस्त बिस्तर पर लेटा रहा और कुछ देर बाद मॉम बेड पर आकर लेट गई तो वो दरवाजा को बन्द करके नाईट बल्ब ऑन कर दी, फिलहाल वो अपने बैग से एक नाईट गाऊन निकाल मेरी ओर देखने लगी ” थोड़ा चेहरा तो फेर ले, कपड़ा बदल रही हूं ” मैं चेहरा को दूसरी दिशा में किया और फिर उनकी ओर देखा तो वो पूर्णतः नग्न खड़ी थी और उनके बड़ी बड़ी बूब्स से लेकर नाभि और मोटी चिकनी जांघों को देख लंड तमतमा उठा, बोला ” चेहरा फेरा तो तुम सब हटा दी ” वो मुझे इशारे से चुप रहने को बोली और नंगे ही मेरी ओर बढ़ने लगी, मैं उसके बलखाती कमर देख तड़प उठा तो लाल रंग के बल्ब में सेक्सी बदन और खूबसूरत लग रहा था…. आगे की कहानी, अगले भाग में।

This story मॉम के साथ हफ्ते भर की यात्रा : भाग – १६ appeared first on new sex story dot com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments