मॉम के साथ हफ्ते भर की यात्रा : भाग – ९

Posted on

डियर फ्रेंडस,
क्या मेरे जैसे लड़कों कि छुअन किसी शादीशुदा औरत की जिस्म को एक नया एहसास देती है या फिर वो सिर्फ अपनी सेक्स की भूख बरकरार रखने के लिए बिस्तर बदलती है, ये तो मेरी सेक्सी मॉम नेहा ही बता सकती है, एक ४० साल की औरत जिसके दो बच्चे हैं तो बेटी की शादी तक हों चुकी है और राहुल तकरीबन १९ साल का है, को भी मेरे जैसे लड़कों कि लंड का चुदाई तृप्त करता हैं। नेहा की सुंदर चेहरा, खुबसूरत जिस्म तो दोनों चूचियों की उफान मानो अरावली पर्वतमाला की दो चोटियां और गोल गुंबदाकार चूतड़ देख तो मन करता है कि अभी शाली की गान्ड चोद डालूं और दोनों बनारस की यात्रा करते हुए आज गंगा के दूसरे किनारे पर पूरा दिन बिताए फिर शाम ०७:०० बजे होटल के रूम पहुंचे तो नेहा रिसेप्शन पर ही दो कॉफी का ऑर्डर करके रूम में घुसी थी फिर वो दरवाजा बंद करके अपना साड़ी उतरी दिं तो मैं भी अपना पैंट और शर्ट खोल दिया फिर मॉम बेशर्म औरत की तरह अपने पेटीकोट और ब्लाऊज़ उतार के अर्ध नग्न अवस्था में सोफ़ा पर बैठी, उनके उरोज ब्रा में थे तो निचला हिस्सा शेप वियर से ढका हुआ था ” राहुल जरा देखो तो ए सी स्टार्ट करके
( मैं ) जरूर वैसे पंखा चला देता हूं ” लेकिन मॉम के कहने पर वातानुकूलित ऑन किया फिर तापमान १९ डिग्री पर सेट करके वाशरूम चला गया, वैसे भी वसंत ऋतु की शाम थोड़ी ठंड तो होती ही है लेकिन नेहा और मैं दिन भर गंगा के दूसरे किनारे पर बैठ सेक्स का आनंद लिए थे तो दोपहर के सूर्य की तेज किरण से भी गर्मी लगने लगी थी। मैं सिर्फ कच्छा और बनियान पहने फ्रेश होकर वापस आया तो नेहा दोनों पैर सीधा किए टेबल पर रखी हुई थी तो उनके नग्न पैर से लेकर मोटे जांघों को देख मन तड़प उठा, अभी तो गंगा किनारे ही इस औरत को चोदा था फिर भी शरीर की ये जरूरत किसी लड़के या औरत की कभी ख़तम नहीं होती। मैं बेड के किनारे बैठा हुआ था तो मॉम उठकर वाशरूम चली गई फिर मैं अपना कच्छा उतार कर शॉर्ट्स पहना तभी डोर बेल बजने लगा तो मैं जाकर दरवाजा खोला और एक सर्विस बॉय कॉफी की पॉट लेकर अंदर आया, रखकर पूछा ” सर और कुछ लेना है
( मैं बोला ) गर्मी बहुत हो रही है तो तीन बोतल बियर ले आओ साथ ही एक पैकेट किंग साईज सिगरेट भी ” वो चला गया फिर मैं दरवाजा लॉक किया और सोफ़ा पर बैठकर कॉफी को दो प्याला में तैयार करने लगा, तभी सेक्सी नेहा वाशरूम से बाहर आई तो उसके तन बिल्कुल ही नग्न थे, मैं एक बार उसकी चूची की ओर देखा ” कुछ तो पहन लो मॉम
( वो मेरे बगल में बैठकर कप उठाई ) बहुत गर्मी हो रही है, एक तो दिन भर सूर्य की किरणें साथ ही तेरी बदमाशी, अभी तो घंटों नग्न ही रहूंगी ” तो वो कॉफी पीने लगी और दोनों जांघें एक दूसरे पर चढ़ाकर कॉफी पीते हुए बोली ” कॉफी पीकर चलो साथ में स्नान करते हैं
( मैं ) कुछ देर आराम करके तब तक बियर की बोतल भी आ जाएगी ” तो नेहा कप रखकर उठी फिर बेड पर लेट गई तो उनके नग्न जिस्म को देख लंड खड़ा होने लगा, अब उनको सही में इतनी गर्मी लग रही थी या वो मुझे रिझाने के लिए अपने बदन को नग्न कर रखी थी पता नहीं। मैं उठकर बेड पर लेटा तो रूम में नाईट बल्ब के सिवाय कोई भी रोशनी नहीं थी फिर दोनों बेड पर लेटे रहे लेकिन नग्न जिस्म पास में रहते हुए अपने आपको काबू में रख पाना कठिन है और नेहा ज्योंहि करवट लेकर लेटी उनके भारी भरकम चूतड़ की ओर मैं करवट लिए उनको पीछे से ही पकड़ लिया लेकिन उनके बूब्स को दबाना ही मेरा उद्देश्य था, उसको पुचकारते हुए उनके गर्दन को चूमने लगा तो मेरा बॉक्सर के अंदर लंड खड़ा होने लगा और उसके गान्ड से लंड रगड़ता हुआ चूची दबाने लगा तो ओंठ उसके गर्दन पर चुम्बन देने लगा और नेहा झट से करवट लेकर मुझे अपने बाहों के घेरे में लिए चेहरा को चूमने लगी तो मैं उनकी चूतड़ को सहलाने लगा, अब देर किस बात की जब नेहा जैसी सेक्सी औरत मेरी बाहों में थी तो वो मेरे शॉर्ट्स को कमर से नीचे करने लगी और संयोगवश डोर बेल बज उठी तो नेहा नग्न हाल में ही वाशरूम की ओर भागी और मैं उठकर दरवाजा खोला तो एक लड़का बियर की बोतल और सिगरेट की पैकेट लेकर अंदर आया फिर टेबल पर रखकर बोला ” सर और कुछ
( मैं ) खाने का ऑर्डर फोन पर दे दूंगा ” उसके जाते ही मैं दरवाजा बंद करके वाशरूम की ओर गया तो दरवाजा खुला था और मैं अंदर देखा तो मॉम नग्न अवस्था में झरना के नीचे स्नान कर रही थी। मैं कामुक होकर वहीं पर शॉर्ट्स खोला साथ ही बनियान और नंगी मॉम के साथ स्नान करने के लिए उनके पास चला गया तो वो तुरन्त ही मुझे बाहों में लेकर चूमने लगी तो दो नग्न जिस्म पानी में भीग रहे थे और उनके चूतड़ पर हाथ फेरता हुआ मैं उनके ओंठ को ही मुंह में लिए चूसने लगा तो वो मेरे गान्ड की छेद में एक उंगली घुसा दी फिर गान्ड को कुरेदते हुए मेरे मुंह से ओंठ निकालकर बोली ” मैं तुम्हें अब भी सेक्सी लगती हूं
( मैं उसके ओंठ पर चुम्बन देकर ) भले ही आपकी उम्र ४० साल हो लेकिन आपकी सुडौल शरीर और कामुकता मुझे हर वक़्त रिझाती है ” तो मॉम को नग्न देखता हुआ मैं उनके पैर के सामने बैठा और वो खुद अपने दोनों जांघों को फैला दी लेकिन एक पैर हवा में उठाई तो उस जांघ को अपने कंधे पर रख मैं अपना चेहरा उनके सेक्सी चुत के करीब किया। राहुल बुर चाटने में उस्ताद है तो उसकी मोटी फांकों को चुम्बन देते हुए उसके गोल गान्ड को सहलाने लगा फिर उसके मोटे जांघ को कंधे पर संभाले उसके चुत को फैलाया तो चुध्दकड़ की ढीली चुत आराम से मेरा पूरा जीभ निगल गई, मेरा चेहरा उसकी जांघों के बीच और उपर की ओर था तो चुत चाटने का मजा लेते हुए मैं उनके गांड़ के मुहाने में उंगली घुसा दिया फिर गान्ड को उंगली करता हुआ चुत चाटने लगा तो नेहा झरना बंद करके ” उह ओह उई चाट रे हरामी अपनी मां को चोद चोदकर रण्डी बना दे ” तो मैं अब चुत से जीभ निकालकर उसके जांघ कंधे पर से हटाया और फिर दोनों शैंपू की बॉटल लिए अपने अपने हथेली पर शेपूं लिए तो मैं नेहा के गर्दन से चूची तक पर शैंपू रगड़ दिया और वो मेरे छाती से पेट और कमर तक को शैंपू लगाकर मस्त हो गई।
राहुल अपनी मॉम के पैर के पास बैठकर चुत से पैर और जांघ तक शैंपू लगाया फिर वो मुड़कर अपना चूतड़ मेरे सामने की तो मैं उसके गांड़ के छेद को फैलाकर जीभ से चाटने लगा और वो दोनों हाथ सामने के दीवार पर रखकर आहें भरने लगी ” उई इतनी गुदगुदी गान्ड में हो रही है जानू, चोद ना उसे
( मैं अब उनके चूतड सहित पैर पर शैंपू लगाने लगा ) बेड पर गान्ड चोदूंगा बेबी ” तो उसके पीठ पर भी शैंपू लगाया और फिर दोनों के बदन झाग से ढक गए, नेहा को अपनी बाहों में लेकर चूमने लगा तो साली रण्डी अपने जांघ फैलाए मेरे लंड पकड़कर अपनी चुत में ही घुसाने लगी, मैं भी अपने आपको रोक नहीं सका फिर उनके चुत में लंड घुसाया तो वो एक पैर हवा में करके रखी जिसे मैं पकड़कर नीचे से ही चुत में लंड पेले चोदने लगा और वो मुझसे चुदाई का आनंद लेते हुए मेरे सीने से चूचियां रगड़ने लगी, दोनों काम की दुनिया में खो चुके थे तो दोनों के बदन आपस में रगड़ खाने लगा पर कमर की मिलन हॉट थी तो लंड चुत की गहराई को दुढ़ने में मस्त थी, शायद चुत से रज की धार निकल पड़ी लेकिन मैं मॉम को चोदता रहा तो चुत से रस टपक रही थी तभी नेहा झरना चालू करके चुदाई के साथ स्नान का भी आंनद लेने लगी तो मैं चोद चोदकर हांफने लगा और नेहा खुद को पीछे करके लंड निकाल दी, दोनों के बदन झाग से साफ हो चुके थे तो नेहा खुद को घोड़ी बनाकर चुदने को तड़प रही थी तो राहुल अपना लंड मॉम की चूतड़ की ओर से चुत में पेलकर चोदने लगा तो वो अपने चूतड़ हिला डुलाकर मजा लेने लगी, कहां तो दोनों कुछ देर बाद स्नान करते लेकिन बियर की ठंडी बोतल रखी रह गई और नेहा की नग्न जिस्म को भींगते देख मैं उसके साथ स्नान के साथ सेक्स भी करने लगे तो वो अब चुदासी चुत चुदवाकर ढीली पड़ रही थी ” अब और नहीं राहुल जल्दी से झाड़ दो ना अपनी रस
( मैं ५-७ तेज झटका देकर चींखं पड़ा ) ले बे कुत्ती मेरा निकला ” तो चुत वीर्य से ठंडा हो गया तो नेहा लंड चूसकर वीर्य का स्वाद चख ली फिर दोनों स्नान करके बाहर निकले।

This story मॉम के साथ हफ्ते भर की यात्रा : भाग – ९ appeared first on new sex story dot com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments