Skip to content

Theater me ex girlfriend rajkumari ko lund par bithaya..

हैल्लो फ्रेंड्स

मैं मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड राजकुमारी की चुदाई की कहानी आपको बताने जा रहा हूँ..

3 साल पहले मेरी एक गर्लफ्रेंड थी जिसका नाम राजकुमारी है..

राजकुमारी दिखने मैं थोड़ी हेल्थी है, मोटे मोटे गूदेदार बोबे है, मांसल गांड भी बहुत मोटी है, उसकी ब्रा का साइज 32 है.. होंठ भी मोटे मोटे है, जब भी पास आती उसके होंठ चूमने का मन करता..

राजकुमारी यहाँ पर अकेली किराये के मकान मैं रहती है. उसके रूम और मेरे घर के बीच कुछ 10 किलोमीटर का फासला है..

मैं राजकुमारी से मिलने उसके रूम पर जाता रहता था पर कभी अकेला नहीं जाता, मेरे एक फ्रेंड को साथ लेकर जाता था जो राजकुमारी के साथ ही जॉब करती थी..

राजकुमारी ने नर्सिंग की हुई थी तो उसकी जॉब किसी प्राइवेट हॉस्पिटल मैं लगी थी जो की उसके रूम से ज्यादा दूर नहीं था..

एक दिन राजकुमारी ने मुझे कॉल किया और बोली की हमको बहुत टाइम हो गया है, अपन कही घूमने नहीं गए. आज रविवार भी है, तो आज चले क्या ?

मैंने बोला – ठीक है, में मेरी फ्रेंड से पूछता हूँ, वो आ रही हो तो उसे भी लेकर तेरे रूम पर आता हूँ, फिर चलते हैं..

वो बोली ठीक है, आप आओ तब तक में भी घर का काम निपटा कर रेडी हो जाती हूँ..

मैंने मेरी फ्रेंड को कॉल किया और उससे पूछा आने को, तो उसने बोला में तो फ्री हूँ, आप रेडी होके घर आ जाओ मुझे लेने, तब तक में भी रेडी हो जाती हूँ.

मैं रेडी होके फ्रेंड के घर गया और वह से उसे साथ लेके राजकुमारी के रूम पर चला गया..

राजकुमारी अभी भी मेकअप करने में लगी हुई थी, हमे यहाँ आए 10-15 मिनट ही हुए थे और मेरी फ्रेंड की मम्मी का कॉल आ गया और उसे अर्जेंट घर बुलाया..

मेरी फ्रेंड ने तो हमारे साथ आने से मन कर दिया, बोली – मम्मी ने अर्जेंट घर पर बुलाया है तो आप दोनों मुझे मेरे घर छोड़ दो और आप दोनों घूम के आ जाओ..

फिर हमने उसको उसके घर छोड़ दिया और फिर मूवी देखने का प्लान बनाया.. हम थिएटर में चले गए..

मैंने 2 कोल्ड ड्रिंक्स और 1 लार्ज पॉपकॉर्न ले लिया और हम पॉपकॉर्न खाते खाते मूवी देखने लगे…

मैं राजकुमारी को पॉपकॉर्न खिला रहा था और वो भी मुझे खिला रही थी..

मैंने जानबूझकर एक पॉपकॉर्न नीचे गिरा दिया, तो वो उसकी गोदी में गिर गया, फिर मैंने पॉपकॉर्न उठाने के बहाने उसकी चुत को छू लिया..

फिर मैंने फिर एक एक छोटा सा टुकड़ा उसको खिलाते खिलाते नीचे गिरा दिया.. वो टुकड़ा छोटा सा होने की वजह से गुम हो गया..

मैं अँधेरे में ही उसकी जाँघे टटोल रहा था और उसकी चुत पर हाथ फेर फेर कर वो टुकड़ा ढूंढ रहा था..

उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और मूवी देखने लगी..
राजकुमारी ने जीन्स टॉप पहना हुआ था और उसकी जाँघे भी काफी मोटी मोटी थी तो मुझे उनको सहलाने में बड़ा मज़ा आ रहा था पर उसने मुझे रोक लिया..

थोड़ी देर बाद उसने मेरा हाथ ढीला छोडा तो मैंने अपना हाथ निकाला और उसके बोबों की तरफ बढ़ाने लगा..

जैसे ही मैंने उसके बोबे को पकड़ा और उसने फिर से मेरा हाथ पकड़ लिया.. और बोली – बेबी प्लीज मूवी देखने दो ना..

उस दिन हम आयुष्मान खुराना की मूवी शुभ मंगल सावधान देखने गए थे..

मूवी का एक सीन है जिसमे भूमि की माँ उसको बोलती है की अली बाबा गुफा तक पहुंचे या नहीं, यहां उसका मतलब था की अली बाबा (आयुष्मान का लण्ड), गुफा (भूमि की चुत) तक पहुंचे या नहीं..

ये सीन देखकर राजकुमारी शर्मा गई और मेरी तरफ देखने लगी लेकिन मैंने उसको कोई रेस्पॉन्स नहीं दिया..

में उसकी तरफ देख ही नहीं रहा था, तो उसको पता चल गया की मुझे गुस्सा आ गया है..

उसने उसका हाथ मेरी तरफ बढ़ाया और मेरी जांघो को सहलाने लगी और फिर मेरा लण्ड सहलाने लगी..

मैं उसको कोई रेस्पॉन्स नहीं दे रहा था, फिर भी वो लण्ड को सहलाये जा रही थी..

मैंने मेरी गर्दन दूसरी तरफ मुड़ा दी..

तो राजकुमारी ने मेरी जीन्स की ज़िप खोली और लण्ड को अंडरवियर से भी बाहर निकाल दिया और धीरे धीरे हिलाने लगी..

मुझे डर लग रहा था की थिएटर में कही कैमरा ना लगे हो वरना पकडे जाएंगे..

लेकिन राजकुमारी को कोई चिंता नहीं थी.. क्यों की मैंने सबसे लास्ट वाली कार्नर सीट ली थी..

राजकुमारी मेरे लण्ड को हिलाये जा रही थी. राजकुमारी के हाथ में मेरा लण्ड था और उसके ऊपर मेरा हाथ था.. तो मे राजकुमारी का हाथ सहला रहा था और वो मेरे लण्ड को..

फिर मैंने राजकुमारी के जीन्स की ज़िप खोल दी और एक ऊँगली उसकी ज़िप के अंदर डाल दी और उसकी चुत को सहलाना चाहा, लेकिन उसने जीन्स बहुत ऊपर पहनी थी तो मेरी ऊँगली उसके पेट तक ही जा रही थी.. और उसकी ज़िप भी छोटी सी थी तो में पूरा हाथ भी नहीं डाल सकता था…

राजकुमारी ने अपनी गांड थोड़ी ऊपर की और जीन्स का बटन खोल दिया.. फिर मैंने ऊपर से राजकुमारी की पैंट में हाथ डाला और उसकी चड्डी के ऊपर से चुत को सहलाने लगा..

राजकुमारी मेरा लण्ड हिला रही थी और में राजकुमारी की चुत सहला रहा था..
राजकुमारी की चड्डी चुत की जगह से गीली हो गई थी.
फिर मैंने उसकी चड्डी में हाथ डाल दिया और उसकी चुत सहलाने लगा..

राजकुमारी अब एक दम चुदासी हो गई थी..
उसकी चुत से गरम गरम लपटें निकल रही थी और वो लण्ड लेने के लिए तड़पने लगी.. और अपनी गांड को उठा उठा कर मेरी उंगलिया अपनी चुत की गहराई me लेने की कोशिश कर रही थी और फिर उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और खुद ही मेरी ऊँगली के साथ अपनी ऊँगली भी चुत में डाल दी और जोर जोर से अंदर बाहर करने लगी..
हम दोनों की उंगलिया राजकुमारी की चुत चोद रही थी..
राजकुमारी इतनी तड़पने लगी की अगर उसका बस चल रहा होता तो वो अभी के अभी घोड़ी बन जाती और मेरा लण्ड अपनी चुत को खिला देती..

उससे रहा नहीं गया और वो अपनी सीट से उठी और मेरी गोद में आकर मेरे लण्ड पर बैठ गई.. मेरा लण्ड बाहर ही था.

वो उसकी गांड को मेरे लण्ड पे रगड़ रही थी..

मैंने बोला – डार्लिंग ! मेरा लण्ड गीला हो रहा है, तेरी जीन्स ख़राब हो जाएगी..

वो बोली – मुझे नहीं पता, मुझे आपका लण्ड लेना है मेरी चुत मैं, नहीं तो में पागल हो जाउंगी इस तड़प से..

मैंने फिर से उसकी चड्डी में हाथ डाल दिया और उसकी चुत में मेरी 2 उंगलिया घुसा दी और उसकी चुत को चोदने लगा..

और लण्ड को उसकी गांड पे भी रगड़ रहा था.. बहुत देर तक मैं राजकुमारी को उंगलियों से चोदता रहा…

एक दम से राजकुमारी ने मेरा हाथ पकड़ा और रोक लिया.. उसकी चुत से गरम गरम और चिकना चिकना रस बाहर आ गया.. और उसके मुँह से एक हल्की सी सिसकारी निकल गई..

मेरा हाथ उसकी चुत में ही था तो चुत से रस से उंगलिया गीली हो गई.. मैंने उंगलिया निकली और राजकुमारी के मुँह में दे दी..

राजकुमारी मेरी उंगलिया चाटने लगी और चाट चाट में साफ़ कर दी.. फिर मैंने उसकी चड्डी से मेरी उंगलिया पोंछी….

राजकुमारी अपनी सीट पर चली गई और जीन्स की ज़िप और बटन बंद कर दिए…

मैंने भी अपना लण्ड अंदर डाला और ज़िप बंद कर दी.. और फिर मूवी देखने लगे..

हम मूवी से छूटे और मॉल से बाहर आ गए तब मेरी नज़र राजकुमारी की गांड पर पड़ी.. वहाँ से उसकी जीन्स मेरे लण्ड रगड़ने की वजह से गीली हो रही थी..
मैंने राजकुमारी को बताया तो उसने अपना स्टाल अपनी कमर पर बाँध दिया..

फिर हम बाइक लेकर राजकुमारी के रूम जाने के लिए रवाना हो गए, तभी बारिश आना स्टार्ट हुई और एक दम तेज बारिश आने लगी.. हमें कही सर छुपाने की जगह ही नहीं मिली इसलिए हम पुरे भीग गए..

भीगते भीगते हम राजकुमारी के घर पहुंचे..

वहाँ ताला लगा हुआ था… रूम की चाबी तो राजकुमारी के पास थी लेकिन हॉल की चाबी नहीं थी, और हॉल ने दूसरे किरायेदार लॉक लगा कर कही चले गए, और बाथरूम उसी हॉल में था जो लॉक हो चुका था..

मैंने राजकुमारी को उसके घर छोडा और जाने लगा.. तभी राजकुमारी ने बोला – बेबी ! बारिश तेज आ रही है, आप पहले से भीगे हुए हो थोड़ी देर यहाँ रुक जाओ, बारिश बंद हो जाए फिर चले जाना, तब तक कपडे भी थोड़े सुख जाएंगे..

मैं भी वहाँ रुक गया और हम दोनों उसके रूम में चले गए..

उसका रूम छोटा सा ही था.. बैठने के लिए सिर्फ एक चेयर पड़ी थी और एक कूलर था रूम में. एक कोने में सोने के लिए एक गद्दा बिछाया हुआ था और दूसरे कोने मैं खाना बनाने का सामान और गैस रखा था..

मैंने रूम में जाकर मेरी शर्ट खोल दी और फिर उसका पानी रूम से बाहर निचोड़ा और फिर रूम में कूलर के सामने सूखा दिया और चेयर पर बैठ गया..

राजकुमारी बोली – आप पैंट भी खोल के निचोड़ के कूलर में सूखा दो ना थोड़ी बहुत सुख जाएगी..

मैंने बोला पैंट सूखा दूंगा तो क्या चड्डी में घूमूँगा.. ??

उसने मुझे एक कम्बल दिया और बोली पैंट खोल के सुखाओ और ये कम्बल ओढ़ के बिस्तर पर बैठ जाओ आराम से, और उससे पहले अपनी बॉडी को टॉवल से पोंछ लो,

मैंने ऐसा ही किया, पैंट खोल के सूखा दी, और टॉवल से मेरे शरीर को पोंछा और कम्बल ओढ़ कर बैठ गया..

राजकुमारी भी अपने गीले कपडे चेंज करने बाहर बाथरूम में जाने लगी लेकिन हॉल में तो ताला लगा हुआ था..

राजकुमारी वापस अंदर आई और उसके पहनने के लिए कपड़ों के ढेर मैं से एक डीप नैक लाल रंग का टोपर, एक भूरे रंग की कैपरी, एक लाल रंग की ब्रा और एक नीले रंग की पैंटी निकाली और चेयर के ऊपर रख दी..

और मुझसे बोली – बेबी ! बाथरूम तो बंद है, मुझे यहीं कपडे बदलने पड़ेंगे…

मैंने बोला – तो क्या हुआ ? बदल लो ना..

उसने बोला – आप अपनी आँखे बंद करो, या फिर दूसरी तरफ देखो..

मैंने बोला – मैं कही नहीं देखूंगा और ना आँखे बंद करूँगा.. आपको चेंज करना है तो कर लो.. मुझसे कैसी शर्म है आपको.. और अगर शर्म आती है मुझसे तो फिर में मेरे घर चला जाता हूँ..

वो बोली – गुस्सा तो नाक पर ही रहता है आपके..

और फिर उसने एक पतली सी चुन्नी ली और उससे अपनी छाती ढंकी.. और फिर अपना टोपर खोल दिया.. मैं उसे घूर रहा था.. लेकिन वो कपडे खोलने में व्यस्त थी.. फिर ब्रा खोलने के लिए उसने चुन्नी को उसके बोबों पर टिका कर पीछे से ब्रा के हुक खोलने लगी..

जैसे ही उसने अपनी ब्रा खोलने की कोशिश की, उसकी चुन्नी एक बोबे से नीचे सरक गई..

उसने जल्दी से वापस चुन्नी को पकड़ा और वापस बोबे पर टिकाई.. लेकिन मैंने तो उसका बोबा देख लिया था.. अब उसने ब्रा खोल दी थी और एक हाथ को छाती पर रखकर चुन्नी पकड़ी हुई थी और दूसरे हाथ से ब्रा को किवाड़ पर सुखाने लगी..

फिर वो जैसे ही चेयर से ब्रा लेने के लिए नीचे झुकी, नीचे से उसकी चुन्नी उड़ने लगी, और मैं तो नीचे ही बैठा था बिस्तर पर, तो मैंने उसके बोबों को देख लिया.. वो फिर से सीधी खड़ी हो गई और चुन्नी के ऊपर ही ब्रा पहन ली, और ब्रा के हुक लगा के चुन्नी ब्रा से निकल दी..

This content appeared first on new sex story .com

मैं मन ही मन सोच रहा था की ये इतनी परेशान क्यों हो रही है.. मुझसे इतना छुपा रही है, फिर भी मैंने तो देख ही लिए इसके बोबे.. अब ये चड्डी बदलेगी तब इसकी भोदी भी देख लूंगा, भले ही ये कैसे भी छुपाए..

राजकुमारी ने ब्रा के ऊपर टोपर भी पहन लिया..

फिर उसने उसकी चड्डी और कैपरी चेयर से उठा कर कूलर पर रख दिए और वो चेयर पर बैठ कर जीन्स खोलने लगी.. जीन्स एक दम टाइट थी और गीली भी थी तो खोलने में बहुत दिक्कत आ रही थी..

उसने सबसे पहले जीन्स का बटन खोला और फिर ज़िप खोली और फिर थोड़ी ऊपर उठ कर नीचे खींचने लगी तो साथ में उसकी गीली पैंटी भी उतरने लगी..

उसने एक हाथ से पैंटी को पकड़ा और दूसरे हाथ से जीन्स को नीचे खींच कर घुटनों तक कर ली..

अब जीन्स पैरों में फंस गई थी, निकल ही नहीं रही थी, तो वो नीचे झुकी और जीन्स की मोरी को पकड़ कर खींचने लगी..

जब वो झुकी तो उसके डीप नैक टोपर के अंदर से उसके बोबे दिखने लगे.. वो बहुत देर से मशक्कत कर रही थी और में उसके झूलते हुए बोबे देख रहा था…

उसके बोबे हवा में झूल रहे थे और आपस में टकरा रहे थे.. एक नंबर का माल लग रही थी राजकुमारी..

फिर जैसे तैसे करके राजकुमारी ने पैंट खोल दी और चुन्नी को कमर पर लपेट दी और खड़ी होकर चुन्नी को ऊपर किया और चड्डी खोलने लगी, और चड्डी को जांघो तक करते ही उसने चुन्नी नीचे कर ली और अपनी चुत छुपा ली..

फिर उसने दूसरी चड्डी उठाई और उसको पहनने के लिए जैसे ही एक पैर उठाया मुझे उसकी चुत के दर्शन हो गए..

उसने चड्डी भी पहन ली और कैपरी भी पहन ली और उसके कपडे इधर उधर सूखा कर चाय बनाने लगी..

वो जब भी नीचे झुकती उसके बोबे मुझे हवा में झूलते हुए दीखते, और जब भी मेरी तरफ पीठ करके झुकती उसकी मोटी गांड पर पहनी हुई चड्डी की पतली पतली स्ट्रिप दिख जाती जिससे उसकी चड्डी का शेप साफ़ दिख रहा था..

वो चाय बना कर लाई, मैं कम्बल ओढ़ कर चड्डी में ही बैठा था..

हम दोनों ने चाय पी, और फिर राजकुमारी खाना बनाने के लिए लहसुन लेकर मेरे पास आकर बैठ गई और छिलने लगी.. कुछ 4-5 लहसुन की कलियाँ छिलने ke बाद वो बोली – बेबी ! मुझे लग रहा है की भीगने की वजह से मुझे ठण्ड चढ़ गई है..

वो वाकई में थोड़ी थोड़ी कांप भी रही थी.. ठण्ड में ज्यादा देर रहने से उसे ठण्ड चढ़ गई थी..

मैंने उसके हाथ से लहसुन लेकर साइड में रखी और उसको मेरी कम्बल के अंदर खींच लिया और उसको भी कम्बल ओढ़ा दी..

मैं कम्बल ओढ़ कर दिवार का सहारा लेकर बैठा था और वो मेरे पास मुझसे चिपक के मेरी कम्बल में बैठी थी.. मैं वो मेरे सीने पर हाथ मलने लगी तब मुझे एहसास हुआ की उसके हाथ काफी ठन्डे हो रहे थे..

मैं उसके हाथ पकड़ के हाथों को चूमने लगा और उसके हाथ को गरम करने लगा लेकिन वो अभी भी कांप रही थी…. फिर मैंने मेरी चड्डी के अंदर उसका हाथ डाल कर अपना लण्ड उसको पकड़ा दिया.. मैंने सोचा इससे राज को गर्मी मिलेगी..

फिर मैंने उसके होंठो को चूमना शुरू किया और उसके मुँह में अपनी जीभ डाल दी..

राजकुमारी मेरी जीभ को चूसने लगी और मेरे होंठो को चूमने लगी..

फिर मैंने उसके गले में, गालों पर, कान पर और छातियों पर पागलों की तरह चूमना शुरू किया और उसका टोपर ऊपर करके उसकी ब्रा के ऊपर से उसके बोबे सहलाने और दबाने लगा..

राजकुमारी लगातार मेरा लण्ड हिलाये जा रही थी..

फिर उसने अपना पैर मेरे पैर के ऊपर रखा और आपस में रगड़ने लगी और फिर घुटने को थोड़ा मोड़ कर मेरे लण्ड पर रगड़ने लगी..

मैंने राजकुमारी की कैपरी को उसकी जांघो तक खींच लिया और उसकी गांड को पकड़ कर उसको मेरी तरफ खींचा और उसकी चड्डी पर अपना लण्ड रगड़ने लगा..

राजकुमारी भी अपनी चुत को मेरे लण्ड पर रगड़ रही थी.. मैं उसके बोबे भी सहला रहा था..

फिर मैंने हमारे ऊपर से कम्बल हटा लिया और राजकुमारी को सीधा लेटा दिया और फिर उसकी कैपरी को पूरा खोल के साइड में फेंक दिया..

और उसकी मोटी मोटी गदराई हुई मांसल जाँघों को अपने हाथो से रगड़ने और सहलाने लगा..

राजकुमारी की चुत पानी छोड़ रही थी इसलिए उसकी पैंटी भीग गई थी…

फिर मैंने राजकुमारी का टोपर और ब्रा दोनों खोल दिए.

राजकुमारी के बोबे बहुत ही बड़े बड़े है.. और गोर गोर भी है.. उसके निप्पल बहुत ही गहरे रंग के है.. और निप्पल के चारों तरफ एक दम बारीक बारीक बाल है..
निप्पल के चारों तरफ का घेरा भी काफी बड़ा है..
एक दम शुद्ध देसी औरत के बोबे होते है ना वैसे ही राजकुमारी के बोबे भी है..

मैं चड्डी मैं ही राजकुमारी के ऊपर लेट गया और उसके मोटे मोटे बोबे मसलने लगा..

हम दोनों ही चड्डी में थे.. उसकी भोदी और मेरे लण्ड के बीच दोनों की चड्डी थी..

फिर भी मैं उसकी भोदी पर अपना लण्ड रगड़ रहा था..
और फिर मैंने उसके होंठो को फिर से चूमना शुरू किया और दांतो से काट भी दिया होंठ पर..

वो एक दम से चिल्लाई — आह ! नरेश,.

मैं रुक गया, और मैंने पूछा – नरेश कौन है,

वो एक दम से सकपका गई की उसके मुँह से ये क्या निकल गया,..

फिर उसने मुझे बताया की नरेश उसका एक्स बॉयफ्रेंड है..

मैंने पूछा की छोडा क्यों उसने..

वो बोली – उसने नहीं मैंने छोडा उसको

मैंने बोला – क्यों ?

तो बोली – बहुत बिगड़ गया था, दारु, सिगरेट तो रोज ही पीने लग गया था और में जहां भी जाती तो मेरे पीछे पीछे आ जाता और बहुत शक करता था मुझपर..

जब भी उसका मन करता, वो मेरे रूम पर आ जाता और बदतमीज़ी करता मेरे साथ..

मैंने पूछा – आपने इतना सब करने क्यों दिया उसको.?

वो बोली – लड़का बहुत अच्छा है, मेरी बहुत केयर करता है, मेरी हर जरुरत पूरी करता है, और मेरे घरवालों की भी बहुत हेल्प करता है.. लेकिन जब से पीना स्टार्ट किया तब से बदतमीज़ी करने लगा था मेरे साथ..

मैंने पूछा – क्या बदतमीज़ी की ?

तो बोली – कभी भी मेरे रूम पर आ जाता और मेरे रूम पर बैठ कर दारू पीता..

मैंने बोला – दारू ही तो पीता था.. और क्या करता था?

बोली – नंगा होके फिर पीता था ??

मैंने बोला – फिर ?

वो बोली – फिर क्या ? फिर कभी – कबार मैं भी पीती थी.. फिर वो मेरे शरीर से खेलता.. मुझे नंगी कर देता फिर मेरे बोबों पर दारू डाल कर चाटता और मेरी चुत पर भी दारू डालकर चाटता था..

मैंने बोला – तुझे मजा नहीं आता था क्या इसमें ?

तो बोली – मजा तो आता था… पीने के बाद तो उसकी सेक्स पावर बढ़ जाती और घंटों तक वो मेरी लेता था..

मैंने बोला – फिर छोडा क्यों उसको ?

वो बोली – एक दिन ज्यादा बदतमीज़ी कर दी उसने..

एक दिन नशे में अपने किसी दोस्त को रूम पर ले आया.. वो दोस्त नरेश से पैसे मांगता था..
नरेश के पास पैसे नहीं थे, तो उस लड़के ने पैसे के बदले मेरे साथ सेक्स करना चाहा..

नरेश उसको घर लेकर आया और मुझे बोला – ये मुझसे पैसे मांगता है और मेरे पास नहीं है..
मैंने बोला – तो ?
नरेश बोला की इसने बोला है की तु इसको तेरी भोदी दिखा दे और इसके लण्ड को एक बार मुँह में लेकर उसको झड़वा दे तो फिर ये पैसे नहीं मांगेगा..

मैंने उसी टाइम दोनों को रूम से भगा दिया और नरेश को भी मेरी लाइफ से हमेशा के लिए निकल फेंका..

अब जो भी हो वो आप ही हो..

फिर मैंने राजकुमारी को किस्स कर लिया..

फिर मैं उठा और राजकुमारी की चड्डी खोल दी..

जो राजकुमारी कुछ देर पहले मुझसे अपना बदन छुपा रही थी वो अब मेरे सामने एक दम नंगी थी..

राजकुमारी की चुत एक दम खुली हुई थी और गहरी थी.. चुत पर काफी झांटें उगी हुई थी..

मैंने राजकुमारी से बोला – तेरी चुत कितनी खुली हुई है.. कितनी बार चुदवाई है…

वो बोली – जब नरेश के साथ रिलेशन में थी तो वो जब भी मेरे रूम पर आता जब मेरी मार कर ही जाता था..

कई बार तो वो पूरी पूरी रात मेरी चुत को चोदता था…

मैंने बोला – इसीलिए इतनी खुली हुई है जैसे किसी रांड का भोसड़ा हो.

वो गुस्सा करके मुझसे बोली मुझे रांड से कम्पैर कर रहे हो..

मैंने बोला – अरे मजाक कर रहा हूँ, तु तो मेरी जान है.

फिर में राजकुमारी की भोदी को जीभ से चाटने लगा और उसके चुत रस का स्वाद लेने लगा..

और फिर उसकी भोदी में मेरा लण्ड डाल के उसके ऊपर लेट गया और उसको चोदने लगा..

राजकुमारी ने एक टांग मेरे कंधे पर रख कर भोदी को और खोल दी और मेरे लण्ड को आगे जाने का रास्ता दे दिया..

मैं जोर जोर से उसकी चुत में लण्ड को अंदर बाहर करने लगा.. अंदर से उसकी भोदी बहुत गरम और चिकनी थी..

फिर मैं नीचे लेट गया और राजकुमारी मेरे लण्ड को अपनी भोदी में डाल कर मेरे ऊपर बैठ गई और फिर गांड हिला हिला कर चुदवाने लग गई..

मैं उसके बोबे दबाते दबाते उसकी चुत में झटके मार रहा था..

फिर वो उठी और मेरा लण्ड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी…
वो लण्ड को तेज तेज हिला कर चूसने लगी… लण्ड उसके गले तक जा रहा था..

थोड़ी देर में मैं उसके मुँह में ही झड़ गया और बेसुध होकर लेटा रहा..

अब बारिश भी बंद हो गई थी..

मैंने उठ कर मेरे कपडे पहने.. कपडे अभी भी गीले ही थे लेकिन उनसे अब पानी नहीं रिस रहा था..

राजकुमारी ने भी अपने कपडे पहने और मुझे गले से लगा कर किस्स किया.. फिर मैंने बोला अब निकलता हूँ मैं…
वो बोली आपको जब भी मेरी जरुरत हो आप मेरे पास आ सकते हो. आधी रात में भी आपके लिए तैयार हूँ मैं.. बस जब भी आओ तो कंडोम साथ में लेकर आना… आपकी रांड भी बनने को तैयार हूँ.. जब भी मेरी भोदी मारने की इच्छा हो आप आ जाना..

मैंने उसको I love you बोला और अपने घर आ गया…

धन्यवाद……

This story Theater me ex girlfriend rajkumari ko lund par bithaya.. appeared first on dirtysextales.com

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments